हम धर्मांतरण करने नहीं दिल जीतने निकले : सिंघल


नई दिल्ली । विश्व हिंदू परिषद के नेता अशोक सिंघल ने कहा कि हम दुनिया के धर्मांन्तरण के लिए नहीं बल्कि लोगों का दिल जीतने के लिए निकले हैं। राजधानी में आयोजित एक कार्यक्रम में सिंघल ने धर्मांन्तरण के मुद्दे पर खुलकर बात की। उन्होंने कहा कि हमारी खोई हुई दिल्ली की सत्ता जो पृथ्वीराज के समय में हमारे हाथ से निकल गई थी, ८०० वर्ष के बाद फिर से कायम हुई है। इससे पहले शनिवार को कोलकाता की एक सभा में आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत ने कहा था कि अगर विपक्षी दल धर्म परिवर्तन पसंद नहीं करते तो संसद में कानून बनाने में सहयोग करें। उन्होंने कहा कि अगर कोई हिंदू नहीं बनना चाहता तो हिंदूओं का भी धर्म परिवर्तन नहीं किया जाना चाहिए।