भूले-भटकों को वापस लाएंगे : भागवत


कोलकाता। धर्मांतरण मामले पर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ प्रमुख मोहन भागवत ने शनिवार को विवादित बयान दिया है। भागवत ने कहा कि जो भूले-भटके चले गए हैं, उन्हें वापस लाएंगे। उनके मुताबिक ंिहदू समाज अब जाग गया है। ंिहदू समाज को डरने की आवश्यक्ता नहीं है। ंिहदू समाज अपनी भूमि नहीं छोड़ेगा। जिन्हें धर्मांतरण पसंद नहीं है, वे कानून लाएं।
उन्होंने कहा कि १९४५ में कुछ होने से पाकिस्तान बना है। पाकिस्तान पर्मानेंट नहीं है। परिवर्तन होने में अब ज्यादा समय नहीं है। दुनिया में उल्टी-सीधी चर्चा करने वाले लोग बहुत हैं, उससे अपने मन में शंका न लाएं। हमको (ंिहदू) किसी को बदलना नहीं है, ंिहदू कहते हैं परिवर्तन अंदर से होता है। हम (ंिहदू) किसी दूसरी जगह से घुसपैठ करके नहीं आए, कहीं और से यहां बसने नहीं आए ये हमारा ंिहदू राष्ट्र है। उल्लेखनीय है कि पिछले कुछ दिनों से धर्मांतरण का मामला सुखियों में है। इस मामले पर विपक्ष पिछले कई दिनों से राज्यसभा में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से अपना पक्ष रखने को कह रहा है।
जदयू नेता केसी त्यागी ने कहा है कि इस मामले में प्रधानमंत्री की चुप्पी मोहन भागवत की मंशा को पूरी करती है।