दिल्ली मोदी की मुठ्ठी में! अवैध कॉलोनियां नियमित कीं


दिल्ली विधानसभा चुनाव से पहले भाजपा का मास्टर स्ट्रोक, 895 अवैध कॉलोनियां नियमित होंगी

नई दिल्ली। राजधानी दिल्ली में चुनाव से ऐन पहले बीजेपी की केंद्र सरकार ने बड़ा दांव चलते हुए दिल्ली की 895 अवैध कॉलोनियों को नियमित करने को मंजूरी दे दी। केंद्र सरकार के मुताबिक इससे लगभग 60 लाख लोगों को फायदा होगा। सरकार ने सोमवार को कैबिनेट की बैठक में जमीन अधिग्रहण संशोधन बिल को मंजूरी दे दी है। इसके तहत दिल्ली की 895 अवैध कॉलोनियों को नियमित करने का भी रास्ता खुल गया है। कैबिनेट की मीटिंग खत्म होने के बाद वित्त मंत्री अरूण जेटली ने कहा कि सरकार ने 31 मार्च 2002 से एक जून 2014 तक बसी 895 अवैध कॉलोनियों को नियमित किया है। जानकारों का कहना है कि इस एक मास्टर स्ट्रोक से ही प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मानो दिल्ली अपनी मुठ्ठी में कर ली है।

केंद्र सरकार ने इन कॉलोनियों को नियमित कर आम आदमी पार्टी और कांग्रेस को बड़ा झटका दिया है। दिल्ली विधानसभा चुनाव से पहले केंद्र सरकार का यह बड़ा फैसला है। इस फैसले से लाखों लोगों को फायदा होने की संभावना है। इस फैसले के जरिए बीजेपी ने बड़ा दांव खेला है क्योंकि अरविंद केजरीवाल अवैध कॉलोनियों को नियमति करने का वादा करते आ रहे हैं। अब केंद्र के इस फसले से आम आदमी पार्टी के इस वादे की हवा निकल सकती है।

लेकिन दूसरी तरफ कांग्रेस का कहना है कि बीजेपी निराधार क्रेडिट ले रही है क्योंकि इन कॉलोनियों को नियमित करने का फैसला तो दिल्ली की कांग्रेस सरकार पहले ही कर चुकी थी। कांग्रेस नेता महाबल मिश्रा ने कहा, ‘दिल्ली सरकार ने 895 कॉलोनियों को नियमित करने का फैसला करके एमसीडी से लेआउट भी जारी करवा दिया था। अब बीजेपी किन कॉलोनियों को नियमित करने की बात कर रही है? कुल 1639 कॉलोनियां अवैध हैं। क्या बीजेपी जिन कॉलोनियों को नियमित करने की बात कर रही है, वे उन 895 से अलग हैं।”

इस बारे में अरविंद केजरीवाल ने कहा है कि बीजेपी सरकार इतनी हड़बड़ी क्यों दिखा रही है। उन्होंने कहा कि आम आदमी पार्टी अध्यादेश लाने के खिलाफ है और यह फैसला इस तरह जल्दबाजी से क्यों किया जा रहा है।