दाउद की वापसी पर प्रतीक्षा कीजिए : राजनाथ


लखनऊ। केन्द्रीय गृहमंत्री राजनाथ िंसह ने पाqश्चमी खुफिया एजेंसियों के इस खुलासे के बीच कि दाउद इब्राहिम पाकिस्तान के कराची में छिपा है। सिंह ने कहा कि हम पाकिस्तान से पहले ही मांग कर चुके हैं कि वह दाउद को भारत के हवाले करे। दाउद के कराची में रहने संबंधी एक कथित टेप के प्रकाश में आने के बारे में सवाल पूछे जाने पर राजनाथ ने संक्षिप्त जवाब में कहा दाउद मोस्ट वांटेड अपराधियों में शामिल है। उन्होंने कहा कि हम पाकिस्तान से पहले ही मांग कर चुके हैं कि वह दाउद को हमारे हवाले कर दे, थोडी प्रतीक्षा कीजिए।’ गृहमंत्री ने यहां अमीनाबाद महिला स्नातकोत्तर महाविद्यालय की प्लैटिनम जुबली समारोह के एक कार्यक्रम के मौके पर संवाद्दाताओं द्वारा धर्मान्तरण को लेकर किये गये सवालों के जवाब में कहा कि मैं समझता हूं कि धर्मान्तरण रोकने के लिए एक धर्मान्तरण विरोधी कानून बनना चाहिए। इस पर सभी राजनीतिक दलों को गंभीरता से विचार करना चाहिए। उन्होंने कहा कि विपक्ष को यह समझना चाहिए कि सरकार का कोई भी मंत्री बोले तो वह सरकार का पक्ष है।
वर्ष ८४ में हुए सिख विरोधी दंगों के पीडितों की सहायता के सिलसिले में हुए एक सवाल के जवाब में गृह मंत्री ने कहा कि दंगा पीडित परिवारों को ५-५ लाख रु की र्आिथक सहायता देने का पैâसला किया है। जिन पीडितों के साथ इंसाफ नहीं मिल पाया है ऐसे मामलों पर विचार के लिए उच्च न्यायालय के एक अवकाश प्राप्त न्यायाधीश की अध्यक्षता में एक समिति का गठन किया है।