जिंदगी लंबी नहीं, बड़ी होनी चाहिए!


-22 साल में शहीद हुए कपिल कुंडु की सोशल मीडिया स्टेटस
-6 दिन बाद ही था जन्मदिन
-ग्वालियर के शहीद की पत्नी बोली- खून के बदले खून चाहिए
– भारत ने पाकिस्तान की कई चौकियां-बंकर तबाह किये

नई दिल्ली, ईएमएस। 22 साल के शहीद कैप्टन ने अपनी फेसबुक पर स्टेटस लिखा था-जिंदगी लंबी नहीं, बड़ी होनी चाहिए। पाकिस्तानी गोलीबारी में रविवार शाम शहीद चार सैनिकों में से एक कैप्टन कपिल कुंडू 23वें जन्मदिन से ठीक छह दिन पहले शहीद हुए हैं। राजौरी जिले में कैप्टन कपिल कुंडू के अलावा तीन अन्य सैनिक रामावतार, शुभम सिंह और रोशन लाल शहीद हो गए। रामावतार ग्वालियर के रहने थे। ग्वालियर में शहीद की पत्नी ने कहा- हमें खून के बदले खून चाहिए। वहीं, सोमवार को भारतीय सेना ने पाकिस्तान को मुंहतोड़ जवाब दिया। सेना ने पाकिस्तान के कई बंकर और चौकियां तबाह कर दीं। हरियाणा के पटौदी के रहने वाले कैप्टन 10 फरवरी को 23वां जन्मदिन मनाने के लिए घर का टिकट भी बुक कर चुके थे। कुंडू के दोस्त रामया थोलिया ने कहा कि कपिल की जिंदगी शुरू से ही संघर्षमय रही। 2012 में कुंडू के जन्मदिन वाले दिन ही उनके पिता की हार्ट अटैक से मौत हो गई थी। कपिल ने पोस्ट किया था, यदि आप चल नहीं कर सकते, तो दौडि़ए, यदि आप दौड़ नहीं कर सकते हैं, तो रेंगिए. लक्ष्य को प्राप्त करने तक नहीं रुकिए। कैप्टन के शहीद होने पर सोशल मीडिया पर कई लोगों ने श्रद्धांजलि दी है। कपिल के द्वारा हिंदी में लिखी एक कविता व्हाट्सऐप पर वायरल हो गई है।

तीन महीने पहले पिता बने थे राम अवतार
शहीदों में मध्य प्रदेश के ग्वालियर निवासी राइफलमैन राम अवतार भी शामिल हैं। राम अवतार तीन महीने पहले ही बेटी के पिता बने थे। ग्वालियर के पुराने छावनी के बरौआ गांव में रहने वाले 28 वर्षीय राम अवतार लोधी तीन साल पहले फौज में भर्ती हुए थे।