‘एक देश.. एक चुनाव’ पर बहस तेज


राष्ट्रपति ने अपने अभिभाषण में दिया जोर

नई दिल्‍ली(ईएमएस)। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के अभिभाषण के साथ ही सोमवार को बजट सत्र की शुरुआत हो गई। सेंट्रल हॉल में दोनों सदनों की संयुक्‍त बैठक को संबोधित करते हुए राष्‍ट्रपति कोविंद ने एक देश, एक चुनाव की और इशारा किया है, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी अपने भाषणों में कई बार देश में एक साथ चुनाव कराने की बात कर चुके हैं। अपने अभिभाषण में राष्ट्रपति ने केंद्र सरकार का रिपोर्ट कार्ड पेश किया साथ ही कहा कि साल 2018 नए भारत के सपने को साकार करने के लिए हैं। उन्होंने यह भी कहा कि राजनीतिक दल देश में सारे चुनाव एक साथ कराने पर बहस करें और सहमत हों। ऐसा माना जा रहा है कि राजस्थान और मध्यप्रदेश के साथ आम चुनाव हो सकते हैं।
देश में लोकसभा और विधानसभा चुनाव एक साथ कराए जाने को लेकर लम्बे समय से बहस जारी है, बीजेपी ने सत्ता वापसी के साथ ही इस मुद्दे को छेड़ा है, इस सवाल पर बहस और तेज हुई है। खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी एक साथ चुनाव कराए जाने की वकालत करते आए हैं और आज ससंद भवन में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने भी अपने अभिभाषण में एक साथ चुनाव कराने पर जोर दिया है। इससे माना जा रहा है कि 2018 में विधानसभा और लोकसभा चुनाव हो सकते हैं, हालांकि यह इतना आसान नहीं होगा।
अभिभाषण में राष्‍ट्रपति कोविंद ने कहा कि बाबा साहब अंबेडकर कहा करते थे कि आर्थिक- सामाजिक लोकतंत्र के बिना राजनीतिक लोकतंत्र स्‍थायी नहीं होगा। 2018 का साल नए भारत के सपने को साकार करने के लिए है। यह हमारी ड्यूटी है कि 2019 में जब हम महात्‍मा गांधी की 150वीं वर्षगांठ मनाएं, तब तक अपने देश को पूर्ण रूप से स्‍वच्‍छ कर उनको सच्‍ची श्रद्धांजलि दें। राष्ट्रपति ने कहा कि तीन तलाक से जुड़ा बिल संसद में पेश हुआ है और आशा है कि संसद शीघ्र इसे लागू करने में मदद करेगी। इस बिल के पास होने पर मुस्लिम महिलाओं और बेटियां आत्मसम्मान के साथ जी सकेंगी। बेटियों के साथ भेदभाव खत्म करने के लिए सरकार ने बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना शुरू की। संसद ने ऐसे बिल को पास किया है जिसके जरिये कामकाजी महिलाओं को 26 हफ्ते का मातृत्‍व अवकाश प्रदान किया जाएगा. 2022 तक किसानों की आमदनी दोगुना करने के लिए सरकार प्रतिबद्ध है। राष्‍ट्रपति कोविंद ने कहा कि हमारा देश सबसे युवा देश है. मेरी सरकार ने स्‍टार्ट अप इंडिया, स्‍टैंड अप इंडिया कार्यक्रम शुरू किया है. युवाओं के सपने को पूरा करने और उनको आत्‍मनिर्भर बनाने के लिए कौशल विकास और प्रधानमंत्री मुद्रा योजना शुरू की गई है. सरकार ने न्‍यूनतम मजदूरी में 40 प्रतिशत की बढ़ोतरी की है।
गरीबों के लिए सरकार की ओर से उठाए गए बड़े कदमों में आधार को शामिल करते हुए कोविंद ने कहा कि आधार ने गरीबों को अधिकार दिलाने में आधार का बड़ा योगदान रहा है। किसानों की आय को 2022 तक दोगुना करने के लिए प्रतिबद्ध है। किसानों को उनकी पैदावार की उचित कीमत मिल सके, इसके लिए देश की कृषि मंडियों को ऑनलाइन जोड़ने का कार्य जारी है, ईनाम पर अब तक 36,000 करोड़ रुपए से अधिक की कृषि वस्तुओं का व्यापार किया जा चुका है।