टेक्सटाइल युवा ब्रिगेड को साधुवाद, बड़ी चोरी का पर्दाफाश


सूरत के कपड़ा बाजार में गुनाहीत प्रवर्तिया काफी मात्रा में उच्चकों द्वारा की जाती है।
Photo/Loktej

सूरत के कपड़ा बाजार में गुनाहीत प्रवर्तिया काफी मात्रा में उच्चकों द्वारा की जाती है। आर्थिक अपराध रोकथाम के लिए काफी समय पहले ही टेक्सटाईल मार्केट में अलग से पुलिस स्टेशन की घोषणा की हुई है लेकिन स्टाफ की कमी के चलते यह अभी तक सम्भव नही हो पाया है।

लेभागू चीटर व्यापारियों की समस्या के अलावा जो सबसे बड़ी समस्या है वो माल चोरी होने की है। आरकेटी मार्केट से काफी समय से पोटला चोरी की शिकायत प्राप्त हो रही थी लेकिन कल का दिन चोरी के बड़े मामले के पर्दाफाश के कारण विशेष हंगामेदार रहा।
मार्केट के एक व्यापारी आशीष राठी को अपनी दुकान में माल कम लगा तो उसने अपनी दुकान के सीसीटीवी कैमरे चेक किए। इसके बाद बेहद चोंकाने वाली बात सामने आई। उसने देखा कि रात को सम्पूर्ण मार्केट बन्द होने के बाद कोई उसकी दुकान को खोल कर माल निकाल रहा है। यह देख कर वो चोंक गए। उन्होंने पूरा मामला देखा तो पता चला कि एक एक करके पूरे छब्बीस पोटला माल उसकी दुकान से चोरों द्वारा निकाल लिया गया है।

उसने तुरन्त टेक्सटाईल युवा ब्रिगेड के राजू तातेड़ तथा रमेश सवाना से सम्पर्क किया। उन्होंने तुरन्त पहुंच कर सलाबतपुरा पुलिस स्टेशन पर जाकर पूरा मामला बताया। मार्केट के सीसीटीवी फुटेज को चेक करने के लिए जब आग्रह किया तो पहले सुरक्षा कर्मचारियों ने आनाकानी की लेकिन बाद में दबाब में आकर दिखाना मंजूर किया। उससे पता चला कि माल टेम्पो से निकला है। दिन में टेम्पो चालक का पता करके रात को उसकी पूरी फील्डिंग की गई तो लिम्बायत के नारायण नगर में गोडाउन का पता चला। तब तक पुलिसकर्मी तथा टेक्सटाईल युवा ब्रिगेड के सदस्य यही समझ रहे थे कि उषा फैशन से चोरी हुआ माल वहां बरामद हो जाएगा लेकिन जब वहां दबिश दी गई तो उनकी भी आंखे फ़टी रह गयी। वहां पर बड़ी मात्रा में माल बरामद हुआ जो कि अलग अलग पार्टीयो का था। समाचार लिखे जाने तक लगभग 20 व्यापारियों ने अपने यहां चोरी होने की शिकायत टेक्सटाईल युवा ब्रिगेड के जरिये की है जो आंकड़ा आगे भी बढ़ सकता है।
यह सारा मामला सामने आते ही खबर जंगल की आग की तरह पूरे कपड़ा बाजार में फैल गई। व्यापारियों ने मेंटेनेंस ऑफिस में बहुत हंगामा किया तथा मार्केट बन्द करवा दिया।

आरकेटीएम के अध्यक्ष जयलाल ने इस मामले में खुद को असमर्थ बताते हुए सारा दोष मैनेजमेंट पर डालते हुए बताया कि वो सिर्फ नाममात्र के अध्यक्ष है। सारा प्रबंधन भवन निर्माता के व्यक्तियों द्वारा ही किया जाता है जो अपनी मनमर्जी वहां चलाते है। उन्होंने चोरी के इस मामले में सुरक्षा कर्मियों को भी सह आरोपी बनाने के लिए सहमति प्रदान करते हुए व्यापारियों के साथ सदैव रहने की प्रतिबद्धता जाहिर की।

टेक्सटाईल युवा ब्रिगेड के राजू तातेड़, रमेश सवाना, सुरेंद्र सेठिया तथा पीएसआई कुशवाहा की सूझबूझ से यह बड़ा मामला पकड़ा गया है।
इसकी आगे की जांच से चोरी का यह बड़ा रैकेट पकड़ा जा सकता है जो मार्केट क्षेत्र में नियोजित चोरियां करवाता है तथा वो व्यापारी भी पकड़े जाएंगे जो चोरी के माल को खरीदते है।

टेक्सटाईल युवा ब्रिगेड पोटला चोरी के विषय पर पहले से आवाज उठाता रहा है। कल का घटनाक्रम उस आवाज की एक सफलता है जो आगे जाकर बड़ी आवाज बनेगी।

भारत माता तथा गुर्जर धरा की अनन्त जयजयकार