इनकम टैक्स मैं आई नई जानकारी


धारा 139 ए ए के तहत अब सुप्रीम कोर्ट के आर्डर के अनुसार सभी करदाताओं को अपने पैनकार्ड को आधार कार्ड से जोड़ना अनिवार्य हो गया है।

(1) धारा 139 ए ए के तहत अब सुप्रीम कोर्ट के आर्डर के अनुसार सभी करदाताओं को अपने पैनकार्ड को आधार कार्ड से जोड़ना अनिवार्य हो गया है। कहीं ऐसा न हो कि आप 2019-20 के रिटर्न्स फाइल्स के लिए वंचित रह जाय। परन्तु ये नियम बैंक एकाउंट व मोबाइल ऑपरेटर के लिए कंपलसरी नही है। साथ ही साथ अब अगर आप अपने पैनकार्ड के लिए ऑनलाइन आवेदन करते हैं, तो आपको 93/-रुपये इनसाइड कन्ट्री व 864/-रुपये आउटसाइड कंट्री के लिए अपने क्रेडिट कार्ड, डेबिट कार्ड या नेट बैंकिंग द्वारा भुगतान करना होगा। आप अपने एड्रेस व डेट ऑफ बर्थ के लिए अपना आधार कार्ड, पासपोर्ट व दो फ़ोटो दे सकते हैं।अपना मेल आईडी देकर आप मेल पर भी अपना पैनकार्ड मंगवा सकते हैं।

(2) अगर आप ऑनलाइन चालान नंबर आई टी अन एस 281 यानी टीडीएस पेमेंट करते हैं, तो आपको सिर्फ 30 मिनिट का समय पूरे प्रोसर्स में मिल पाएगा क्योंकि डिपार्टमेंट ने नया फ़ॉर्मेंट जारी किया है।

(3) एक खास जानकारी है कि अगर आपने 2018-19 में भरे आई टी आर में गलत जानकारी या इनकम टैक्स रिफंड का गलत दावा किया हो या फिर कोई लोन लेने के चक्कर में फर्जी इनकम बताई है, तो सरकार की तरफ से ऐसे लगभग 21000 हजार रिटर्न्स की जांच की जा रही है। साथ ही नोटिस भी जारी किए जा सकते हैं। कारण कि हर साल आई टी आर रिटर्न्स के आंकड़े बढ़ते जा रहे हैं।कोई भी गलत जानकारी होने पर आप पर जुर्माना लगाया जा सकता है। अगर आपने सही इनकम व रिफंड का दावा सही किया है तो घबराने की जरूरत नहीं है।

(4) सरकार अब जीएसटी के कम रेवेन्यू का दबाव एडवांस टैक्स यानी डायरेक्ट टैक्स से करना चाहति है। जिस करदाता ने पिछले वर्ष कितना एडवांस टैक्स दिया उसके आधार पर मैसेज के जरिए सूचना देती है कि चालू वर्ष में कितना टैक्स अदा किया है। कारण की अब करदाता चार क़िस्त में एडवांस टैक्स चुका सकते है जिसका रेशियो इस प्रकार हैं।
जून 2018 -15%,
सितंबर 2018 -45%,
दिसम्बर 2018-75%
और मार्च 2019-100% हैं।
अतः आप अपना एडवांस टैक्स पिछली सेल्स डेटा के हिसाब से व चालू वर्ष में कितनी बढ़ोतरी हुई उसके हिसाब से अपना टैक्स भरकर आयकर विभाग की नजर से बच सकते हैं।