पालिका में भर्ती में घोटाले के विरोध में जानें किसने महापौर के घर पर मोर्चा ताना


महानगरपालिका के सफाई कर्मचारियों की भर्ती में हुए अन्याय के खिलाफ दैनिक सफाई कर्मचारियों में काफी आक्रोश दिखाई दे रहा है।
Photo/Loktej

पालिका में सालों से दैनिक वेतन पर सफाई करनेवालों को कायमी कर्मचारी बनाने की मांग

सूरत। महानगरपालिका के सफाई कर्मचारियों की भर्ती में हुए अन्याय के खिलाफ दैनिक सफाई कर्मचारियों में काफी आक्रोश दिखाई दे रहा है। चुनाव आचारसंहिता लागू होने के दिन पालिका द्वारा भर्ती में शामिल उम्मीदवारों की सूची जारी कर जान-पहचान वालों को नौकरी देने का आरोप लगाया गया। आक्रोषित सफाई कर्मचारियों ने सोमवार को पालिका आयुक्त को ज्ञापन दिया था। जिसके बाद दूसरे दिन महापौर डॉ.जगदीश पटेल के घर पर मोर्चा ले जाकर हाय-हाय के नारे लगाए गए।

कतारगाम स्थित महापौर डॉ. जगदीश पटेल के घर के सामने पालिका में रात्रि/दिवस के दौरान दैनिक सफाई कर्मचारियों ने अन्याय के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया। करीबन 500 जितने सफाई कर्मचारी महापौर के घर के सामने रास्ते पर बैठकर महापौर हाय-हाय के नारे लगाए। इस दौरान सफाई कामगारों के अग्रणियों ने कहा कि उनके तीन हजार साथीदार पिछले कई सालों से पालिका में रात्रि तथा दिवस के दौरान दैनिक वेतन पर सफाई कर्मचारी के तौर पर काम कर रहे हैं। भर्ती से पूर्व और भर्ती प्रक्रिया के दौरान महापौर तथा उप मुख्यमंत्री नितिनभाई पटेल से मिलकर दैनिक वेतन पर जो कर्मचारी सफाई करते हैं, उन्हें भर्ती में प्राथमिकता देकर कायमी कर्मचारी बनाने की पेशकश की गयी थी। पालिका में जब कायमी सफाई कर्मचारियों की जो सूची जारी हुई है उसमें दैनिक वेतन पर सालों से पालिका में सफाई करनेवाले उम्मीदवारों का नाम नहीं होने पर वे आक्रोषित होकर आज महापौर के घर के सामने विरोध प्रदर्शन करने रास्ते पर उतरे हैं।