सावधानी ही सबसे बेहतर उपाय : कपड़ा बाजार चोरी


पिछले एक सप्ताह से सूरत में हर तरफ जिसकी चर्चा रही वो राधाकृष्णा टेक्सटाइल मार्केट की बड़े पैमाने पर हुई चोरी की थी।
Photo/Loktej

पिछले एक सप्ताह से सूरत में हर तरफ जिसकी चर्चा रही वो राधाकृष्णा टेक्सटाइल मार्केट की बड़े पैमाने पर हुई चोरी की थी। हर व्यक्ति की चर्चा में कमोबेश इस विषय का समावेश पिछले मंगलवार से ही रहा है। सुनियोजित तरीके से पिछले काफी समय से चोरी हो रही थी लेकिन व्यापारी इससे पूर्णतया अनभिज्ञ थे क्योकि इतने बड़े व्यापार में माल की अत्यधिक आवाजाही में यह पता चल पाना लगभग नामुमकिन था। जिस तरह से चोरी हुई, उसका पता चला और बाद में व्यापारियों ने अपना अपना घर संभाला, तो पता चला कि यह तो बहुत बड़ा गड़बड़झाला हुआ है।

आक्रोशित व्यापारियों ने मार्केट बन्द करवा दिया, मार्केट प्रबंधन पर गुस्सा निकाला, पुलिस को बुराभला बताया,स्थानीय जनप्रतिनिधियों से मुलाकात की,पुलिस के आला अधिकारियों से अपनी व्यथा कही और अंत मे रही सही कसर पूरी करते हुए प्रदेश के मुख्यमंत्री तथा पुलिस महानिदेशक तक भी मामला पहुंचा दिया। मार्केट कल से यथावत चालू हो गया, जैसा पहले था वैसा ही वातावरण वापिस हो गया। कुछ पीड़ित व्यापारियों के अलावा शायद कल किसी ने चर्चा भी करना आवश्यक नही समझा और सभी अपने काम मे मशगूल भी हो गए।

पुलिस अपना काम कर रही है, उसी गति से कर रही है जिस गति से उन्हें करना है, बन्द रखा तो भी वही गति है और न रखते तो भी वही गति रहती। गुनाहगारों तक पहुंचेगी भी, ओर बचा खुचा माल जब्त भी होगा जो कोर्ट के थ्रू व्यापारियों को मिलेगा। यह माल उन व्यापारियों को मिलेगा जिन्होंने अपनी शिकायत दर्ज करवाई है तथा जो अपने क्रय विक्रय तथा रहतिये के लेखांकन के प्रस्तुतिकरण से इस बात से संतुष्ट कर पाएंगे कि यह माल उनका है तथा जीएसटी आदि प्रक्रियाओं से गुजर कर पूर्णतः कानूनन रूप से वैद्य है।

अतः मुझे व्यक्तिगत रूप से नही लग रहा कि ज्यादा बड़ा मामला सामने आएगा जितने का अनुमान है तथा जितना वाकई में हुआ भी है।
आरोपियों पर भारतीय दंड संहिता की धारा 378, 379, 380 के अंतर्गत कार्यवाही होगी और जैसा कि होता आया है वही यहां भी होगा।
लेकिन अब व्यापारी वर्ग को इससे सीख लेनी चाहिए क्योंकि कोई भी घटनाक्रम हमे बहुत कुछ सिखाने के लिए भी घटित होता है। भविष्य में हमारे साथ इस प्रकार की घटनाएं न हो इसके लिए हमे इस बड़ी चोरी से सीखना चाहिए। दुकान तथा गोदाम में सीसीटीवी कैमरे जरूर हो जिन्हें मोबाइल से कनेक्ट करके भी रखना चाहिए। तालो को अमुक समय बाद बदलने की प्रक्रिया सभी व्यापारी भाइयो को करनी चाहिए। अगर माल की ज्यादा आवक जावक हो तो दुकान बंद करते समय माल की फोटो जरूर ले लेवे जिसे अगले दिन खोलते ही मिलान कर लेवे।
इसके अलावा पोटला चोरी जैसी घटनाओं से बचने के लिए गेटपास सिस्टम को ओर अधिक सुचारू बनाना जरूरी है। ओर सबसे बड़ी बात की जब कोई घटना हो जाये तो पुलिस के तुरन्त जाए तथा उन्हें जानकारी दे, वो हमारी सुरक्षा के लिए ही है अतः कोई भी प्रकार का डर न रखे। सावधानी रखते हुए निडर होकर व्यापार करे।

सर्व आश्रयदात्री भारत माता की जय ।