दलाई लामा आज से दो दिन सूरत के मेहमान


दलाई लामा कल संतोकबा पुरस्कार से सम्मानित होंगे

सूरत। श्री रामकृष्ण फाऊंडेशन के गोविन्दभाई ढोलकिया ने अधिकारिक तौर पर 7वें संतोकबा पुरस्कार को परमपावन दलाई लामा को दिए जाने की घोषणा की। आज 1 जनवरी को परमपावन दलाई लामा इस प्रतिष्ठित पुरस्कार को प्राप्त करने के लिए विशेष रूप से सूरत में उपस्थित रहेंगे। विश्व में दो बार शांति का नोबल प्राईज प्राप्त करने वाले एक मात्र दलाई लामा को संतोकबा पुरस्कार से पहली बार आंतर्राष्ट्रिय व्यक्ति विशेष को सम्मानित होंगे। दलाई लामा तिबेटीयन धर्मगुरू एवं शांति के प्रणेता है जिन्हे विश्व दुसरे अहिंसा के पुजारी महात्मा गांधी समझते है। 2 जनवरी को ताज गेटवे होटल में आयोजित भव्य समारोह में दलाई लामा की ट्रस्ट को 25 लाख का दान एवं एक हीरे जडीत सोने की ट्रोफी से उनको 7वें संतोकबा पुरस्कार से सम्मानित किया जाएगा। इस अवसर पर पत्रकारों को जानकारी देते हुए गोविंदभाई ने कहा कि संतोकबा पुरस्कार की शुरूआत एसआरके फाउंडेशन द्वारा ऐसे लोगों के कार्यो पर प्रकाश डालने के लिए कि गई थी जो निस्वार्थ भाव से सामाजिक कार्यो के लिए प्रतिबध्द है और जिनकी सेवा से वैश्विक स्तर पर लाखों लोगों के जीवन पर सकारात्मक प्रभाव पडा है, और उन्हे इससे प्रेरणा मिली हो। इससे पहले सैम पित्रोडा, डो. वर्गीज कुरियन, डो.एच एल त्रिवेदी, श्री नारायण देसाई, श्रीमति पुर्णिमाबेन पक्वासा और प्रोफेसर डो एम एस स्वामिनाथन जैसी प्रमुख हस्तीयों को इस पुरस्कार से नवाजा जा चुंका है। गोविंदभाई ने कहा कि संतोकबा पुरस्कार हमेशा से ऐसे लोगों को सम्मानित करता है जिसके संघर्षो, कार्यो और विचारों से लोगों को निरंतर प्रेरणा मिलती है। परमपावन दलाई लामा को यह पुरस्कार प्रदान करते हुए हमें गर्व की अनूभूति हो रही है सूरत में परमपावन दलाई के लिए आयोजित पुरस्कार समारोह की मेजबानी का सन्मान भी मिला है। सूरत प्रवास के दौरान परमपावन दलाई लामा को कई छात्रों एवं गुजरात में रहने वाले तिब्बतियों के साथ बात करने का अवसर मिलेगा इसके अलावा लंच के दौरान देेश के प्रमुख व्यावसायिक हस्तियों के सात वर्तमान सदी में व्यापार में नैतिक्ता के बारे में बात करने का मौका मिलेगा।

दलाई लामा का सूरत में दो दिवसीय कार्यक्रम
1 जनवरी का कार्यक्रम :- सुबह 9.30 बजे दिल्ली से चार्टर प्लेन द्वारा सूरत हवाई अड्डे पर आगमन वहां से श्री रामकृष्ण एक्सपोर्ट फेक्टरी में जाऐंगे वहा से वापस होटल में विराम के लिए वहां से 1 बजे 2.30 बजे तक वीर नर्मद दक्षिण गुजरात युनिवर्सिटी के कन्वेशन होल में छात्रों डेढ़ घंटे तक होप फोर टुमोरो विषय पर संबोधन कर छात्रों के साथ लाईव बातचीत करेंगे। उसके बाद 2.30 से 3 बजे तक गांधीस्मृति होल में सूरत सहित समग्र गुजरात में सालों से बसे तिबेटीयन समुदाय के लोगों के लिए विशेेष आयोजित इस कार्यक्रम में आधे घंटे तक तिबेटीयन भाषा में स्टेन्थ ओफ तिबेट विषय पर संबोधन करेंगे। उसके बाद अपनी दिनचर्या के मुताबिक 3.30 बजे के बाद होटल में आकर ध्यान में बैठेंगे।
2 जनवरी का कार्यक्रम :- सुबह 9.20 बजे पाल स्थित संजीवकुमार ओडिटोरियम में संतोकबा पुरस्कार प्रदान किया जाएगा। मुख्य अतिथि गुजरात के गर्वनर ओ पी कोहली की उपस्थिती में उनके हाथों से परमपावन दलाई लामा को संतोकबा पुरस्कार के साथ 25 लाख का चेक एवं सोने तथा हीरो की ट्रोफि प्रदान की जाएगी। 1200 लोगों की क्षमता वाले संजीवकुमार ओडिटोरियम में शहर तथा राज्य के विशेष आमंत्रितो कि उपस्थिति में संतोकबा पुरस्कार प्रदान किया जाएगा। 11.20 बजे ओडिटोरियम से वापस होटल आकर 11.30 से 12 बजे तक दलाई लामा और गोविंदभाई पत्रकार परिषद को संबोधित करेंगे। 12 बजे दलाई लामा आराम के लिए अपने रुम में जाऐगे। आमंत्रितों के लिए लंच के बाद दोपहर 1.30 से 3.30 बजे तक शहर तथा राज्यों के उधोगपितयों को व्यापार में नैतिक्ता विषय पर संबोधन कर उधोगपतियों के साथ इस विषय पर सवाल जवाब करेंगे। 3.30 बजे दलाई लामा अपने रूम में ध्यान में चले जाऐंगे।
3 जनवरी को सुबह अपने निर्धारित समयानुसार सूरत से पुणे के लिए रवाना होंगे।