आईएसएल-5 : केरला से उसके घर में भिड़ेगी दिल्ली


कोच्चि। अपने घर में पिछले मैच में एटीके के हाथों हार झेलने वाली दिल्ली डायनामोज इंडियन सुपर लीग (आईएसएल) के अपने अगले मैच में शनिवार को केरला ब्लास्टर्स से उसके घरेलू जवाहरलाल नेहरू स्टेडियम में भिड़ेगी।

ब्लास्टर्स ने इस सीजन का शानदार शुरुआत की है और दिल्ली के लिए उसकी चुनौती का सामना करना किसी भी लिहाज से आसान नहीं होगा।

ब्लास्टर्स ने दो मैचों से चार अंक अपने खाते में डाल लिए हैं और अंकतालिका में वह अच्छी स्थिति पर है। दो बार की उप-विजेता ने पहले मैच में एटीके को मात दी थी और उसके खिलाफ कोलकाता की जमीन पर पहली जीत हासिल की थी। मुंबई सिटी एफसी के खिलाफ वह अपनी लगातार दूसरी जीत दर्ज करने के करीब थी, लेकिन प्रांजल भूमजी ने आखिरी पलों में गोल कर स्कोर बराबर कर दिया था।

मैच से पहले ब्लास्टर्स के मैनेजर डेविड जेम्स ने कहा, “दिल्ली एक अच्छी टीम है। मुझे उस टीम में जो सबसे अच्छी बात लगती है, वो ये है कि वह भी हमारी तरह युवा टीम है। जब आप उसमें प्रतिभा और जोड़ देते हैं तो वह काफी खतरनाक टीम बन जाती है। दिल्ली के अंदर काबिलियत है। हमें इस बात को सुनिश्चित करना होगा कि हम सही मानसिक स्थिति के साथ मैदान पर उतरें।”

फीफा अंडर-17 विश्व कप में भारतीय टीम के गोलकीपर रहे धीरज सिंह इस लीग में ब्लास्टर्स से खेल रहे हैं और उनका सेव परसेंटेज 85.71 फीसदी है, जो लीग में सर्वश्रेष्ठ है। वह एक बार फिर दिल्ली के खिलाफ अपनी इसी फॉर्म को जारी रखना चाहेंगे। डिफेंस में संदेश झिगान और नेमांजा लाकिस-पेसिक की जोड़ी को छका पाना आसान नहीं है। इसमें उन्हें मोहम्मद राकिप और लालरुथारा का भी साथ मिलता है। झिंगान की टीम ने अभी तक सिर्फ एक गोल खाया है और वह दिल्ली की फॉरवर्ड लाइन को अच्छी चुनौती दे सकते हैं।

डायनामोज के सहायक कोच मृदुल बनर्जी भी ब्लास्टर्स की डिफेंसिव रणनीति से वाकिफ हैं।

उन्होंने कहा, “ब्लास्टर्स की टीम काफी अच्छी है। मैंने उनकी टीम में मौजूद कुछ खिलाड़ियों को प्रशिक्षण दिया है। उन्होंने अपने बीते दो मैचों में शानदार खेल दिखाया है। ब्लास्टर्स का डिफेंस काफी अच्छा है। हमारे लिए मुश्किल होगा, लेकिन हम अपना सर्वश्रेष्ठ देंगे।”

नए कोच जोसेफ गोमबाउ के मार्गदर्शन वाली डायनामोज को पांचवें सीजन की शुरुआत के लिए दो घरेलू मैच सौंपे गए। दोनों मैचों में उसने एक अंक हासिल किया लेकिन उसे लगता है कि वह दोनों मैचों जीत सकती थी।

अपने पहले मैच में पुणे सिटी के खिलाफ वह जीत की ओर बढ़ रही थी, लेकिन डिएगो कार्लोस ने अंतिम पलों में बराबरी का गोल कर उसे अंक बांटने पर मजबूर कर दिया। वहीं दूसरे मैच में उसे एटीके ने 2-1 से मात दी। इस मैच में टीम अच्छी फीनिशिंग नहीं कर पाई और अंत में एक बार फिर गोल खा गई।

बनर्जी ने कहा, “हमारी कोशिश अंतिम पलों में गोल खाने की समस्या को खत्म करने की है। हम इस पर काम कर रहे हैं और कोशिश करेंगे कि कम से कम गोल खाएं।”

लालइनजुआला चांग्ते और नंदकुमार सेकर फ्लैंक्स पर शानदार खेल खेल रहे हैं, लेकिन गोमबाउ को उम्मीद होगी कि आंद्रिजा कालूडेरोविक गोल करने में सफल रहें। दिल्ली की फॉरवर्ड लाइन की शॉट एक्यूरेसी अभी तक सिर्फ 25 फीसदी है।

ब्लास्टर्स इस सीजन में घर में अपनी पहली जीत की तलाश में है जबकि डायनामोज सीजन में अपनी पहली जीत खोज रहे हैं। ऐसे में दोनों के बीच एक रोमांचक मुंकाबला देखने को मिल सकता है।

-आईएएनएस