यूसुफ पठान की मुश्किलें बढ़ा सकती है वाडा


मुम्बई (ईएमएस)। डोपिंग उल्लंघन के मामले में ऑलराउंडर यूसुफ पठान का निलंबन 14 जनवरी को ख़त्म हो रहा है। माना जा रहा है कि इस निलंबन के बावजूद यूसुफ पठान की परेशानी समाप्त नहीं हुई है। बीसीसीआई ने यूसुफ को आईपीएल में शामिल होने की अनुमति दे दी है। ऐसा इसलिए हुआ क्योंकि पठान ने दलील दी कि उन्होंने अनजाने में एक कफ सिरप पी लिया। उनका इरादा इसके ज़रिए अपने खेल को बेहतर करने का नहीं था। बीसीसीआई भी पठान की दलील पर सहमत हो गई है पर वाडा के अनुसार अभी मामला ख़त्म नहीं हुआ है।
पठान पर लगा वाडा का प्रतिबंध अभी ख़त्म नहीं हुआ है। वाडा के प्रोटोकॉल के तहत पहली बार अपराध करने पर चार साल के प्रतिबंध का प्रावधान है।
बीसीसीआई ने एक बयान में कहा, “युसूफ पर डोपिंग उल्लंघन के कारण निलंबन लगाया गया है। उन्होंने अनजाने में एक प्रतिबंधित पदार्थ का सेवन कर लिया जो आम तौर पर सर्दी खासी के सिरप में पाया जाता है।” पठान ने पिछले साल 16 मार्च को बड़ौदा और तमिलनाडु के बीच एक घरेलू टी20 मैच के बाद बीसीसीआई के डोपिंग निरोधक परीक्षण कार्यक्रम के तहत यूरिन का नमूना दिया था। बोर्ड ने कहा, “उनके नमूने की जांच की गई और उसमें टरबूटेलाइन के अंश मिले। यह वाडा के प्रतिबंधित पदार्थों में आता है।” वहीं पठान ने कहा कि उन्हें इस बारे में जानकारी नहीं थी।