यूपी में शराब पर लगेगा गो-कल्याण उपकर, गाय शेल्टरों के लिए दिए 100 करोड़


उत्तर प्रदेश सरकार ने शराब पर दो फीसदी गो-कल्याण उपकर लगाने का निर्णय लिया है।
Photo/Twitter

लखनऊ । उत्तर प्रदेश सरकार ने शराब पर दो फीसदी गो-कल्याण उपकर लगाने का निर्णय लिया है। इसके साथ ही लावारिश गायों के लिए शेल्टर उपलब्ध कराने के लिए स्थानीय निकाय को 100 करोड़ रुपए दिए हैं। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट बैठक में पांच प्रस्तावों पर मुहर लगाई गई। सबसे अहम फैसला यह रहा कि गायों के आश्रय स्थलों के वित्तीय प्रबंधन के लिए आबकारी विभाग शराब पर दो प्रतिशत गो-कल्याण उपकर लगाएगा। सरकार के प्रवक्ता और ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा के मुताबिक आवारा गोवंश की समस्या के समाधान के लिए यह कदम उठाया गया है। हर जिले में ग्रामीण क्षेत्रों और नगरीय क्षेत्र में न्यूनतम 1000 निराश्रित पशुओं के लिए आश्रय स्थल बनेंगे। इसके लिए मनरेगा के माध्यम से ग्राम पंचायत, विधायक, सांसद निधि से निर्माण कराया जाएगा। 100 करोड़ रुपए स्थानीय निकाय को सरकार ने दिए हैं।

उन्होंने बताया प्रदेश के सभी ग्रामीण निकायों (ग्राम पंचायत, क्षेत्र पंचायत, जिला पंचायत) एवं शहरी निकायों (नगर पालिका, नगर निगम) में स्थाई गोवंश आश्रय स्थल बनाने एवं संचालन नीति के निर्धारण के प्रस्ताव को कैबिनेट से मंजूरी मिली है। गोवंश आश्रय स्थलों के वित्तीय प्रबंधन के लिए आबकारी विभाग शराब पर दो प्रतिशत गो-कल्याण उपकर लगाएगा।

शर्मा ने बताया पुलिस और अग्निशमन सेवा के अफसरों के साथ ड्यूटी के दौरान होने वाली किसी दुर्घटना के लिए उन्हें अनुग्रह राशि प्रदान किए जाने के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी गई है। 80 से 100 फीसदी तक अपंग होने पर 20 लाख रुपए की आर्थिक सहायता दी जाएगी। 70 से 79 फीसदी तक 15 लाख रुपए, 50 से 69 फीसदी तक 10 लाख रुपए की आर्थिक राशि प्रदान करने की स्वीकृति दी गई है।

उन्होंने कहा इससे पहले की व्यवस्था में पुलिस विभाग के कर्मचारियों और अधिकारियों की ड्यूटी के दौरान मारे जाने पर परिवार को 40 लाख रुपए और उनके माता-पिता को 10 लाख रुपए दिए जाते हैं, लेकिन अग्निशमन के कर्मचारियों के लिए कोई व्यवस्था नहीं थी। यह व्यवस्था नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में केंद्र सरकार ने की है। प्रवक्ता ने कहा राज्य सरकार ने केंद्र की नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में व्यवस्था का संज्ञान लेते हुए इसे लागू किया है।

– ईएमएस