जागरुक मतदाता ने अपने पुत्र का नाम रखा मतदान, 120 किलोमीटर जाकर दिया वोट


देवास के खातेगांव पोलिंग स्टेशन में एक 26 साल का युवक संतोष भी लाइन में खड़ा था। संतोष ने अपने बेटे का नाम 'मतदान' रखा है।
Photo/Twitter

देवास । मध्यप्रदेश में विधानसभा चुनाव को लेकर बुधवार को मतदान हो गया। मतदान के बाद कई रोचक कहानियां सामने आ रही है। इन्हीं में से एक कहानी मतदान की है। दरअसल देवास के खातेगांव पोलिंग स्टेशन में एक 26 साल का युवक संतोष भी लाइन में खड़ा था। वह बार-बार अपनी घड़ी देख रहा था। हालांकि वह वोट डालने के लिए इंतजार करता रहा। अपना नंबर आने पर उसने वोट डाला और दौड़कर सीधा अस्पताल गया, जहां उसकी पत्नी भर्ती थी। यहां पत्नी ने एक बेटे को जन्म दिया। बेटे के जन्म के बाद खुश नजर आए संतोष ने अपने बेटे का नाम तक ‘मतदान’ रखा है। संतोष की पत्नी विशाखा गर्भवती थी। उस मतदान के दिन ही प्रसव का दर्द होने लगा। वह उस लेकर हॉस्पिटल पहुंचा। वहां पत्नी को भर्ती कराया। संतोष ने बताया कि पत्नी को अस्पताल में भर्ती कराने के बाद वह वहां से 120 किलोमीटर दूर गांव आकर अपना वोट डाला। इसके बाद अस्पताल पहुंचा तो उस पता चला कि उसकी पत्नी ने एक बेटे को जन्म दिया है। संतोष ने बताया, मैं अपने इलाके और राज्य के हरेक व्यक्ति को मताधिकार के प्रति जागरूक करना चाहता था इसलिए अपना वोट बर्बाद नहीं किया। संतोष ने कहा, मैंने अपने बेटे का नाम मतदान रखा है। हो सकता है इस नाम को लेकर भविष्य में कोई समस्या आए। अगर ऐसा हुआ तो स्कूल में बेटे का नाम बदल दूंगा। फिलहाल मैंने उसका नाम मतदान रखा है और मैं इस नाम से बहुत खुश हूं। मुझे उम्मीद है कि मेरे बेटे के नाम पर कोई कानूनी अड़चन भी नहीं आएगी।’

– ईएमएस