सत्ता में फिर वापसी के लिए भाजपा ले रही उमा भारती के जमाने के टोटके का सहारा


बीजेपी सत्ता में वापसी के लिए अपने पुराने टोटके को एक बार फिर आजमा रही है।
– भोपाल बीजेपी मुख्यालय के प्रवेश द्वारा पर बन रही पानी की टंकी

भोपाल। इन दिनों मप्र की फिजाओं में ठंड के इस मौसम में चुनावी गर्मी साफ महसूस की जा रही है। बीजेपी हो या चाहे कांग्रेस दोनों ही प्रमुख दलों के नेता बची हुई सीटों पर अपनी दावेदारी ठोंकने के लिए भोपाल और दिल्ली के चक्कर काट रहे हैं तो वहीं जिनके नाम अबतक लिस्ट में सामने नहीं आए हैं वे भी नाराजगी दिखाने की कोशिश में लगे हुए हैं। चुनावी जोड़तोड़ और दलबदल का दौर भी प्रदेश में शुरू हो चुका है, लेकिन इसी बीच एक खबर यह भी आई है कि बीजेपी सत्ता में वापसी के लिए अपने पुराने टोटके को एक बार फिर आजमा रही है।

जी हां, भोपाल स्थित बीजेपी मुख्यालय के मुख्य द्वार के पास इसी टोटके के तहत एक पानी की टंकी बनाई गई है। बता दें कि बीजेपी कार्यालय में यह पानी की टंकी पहली बार नहीं बनी है। उमा भारती के दौर में 2003 से पहले भी इसी जगह पानी की टंकी बनाई गई थी। लेकिन बाद में इस तोड़कर वहां सुरक्षाकर्मियों के लिए एक कमरा बना दिया गया था। अब जब चुनाव सिर पर हैं और कुछ बड़े चेहरे पार्टी का दामन छोड़ने की तैयारी में हैं वहीं कुछ से भितरघात की चिंता है। उस वक्त फिर से सत्ता में वापसी करने के लिए बीजेपी ने अपने पुराने टोटके को एक बार फिर आजमाने की कोशिश की है। भोपाल बीजेपी मुख्यालय के पास बने सुरक्षाकर्मियों के कमरे को तोड़कर वहां फिर से पानी की टंकी बना दी गई है।

बताया जा रहा है कि यह पानी की टंकी बीजेपी दफ्तर में टिकट को लेकर हो रहे प्रदर्शनों और बगावत को रोकने के लिए बनाई गई है। पहली सूची जारी करने के लगातार उठ रहे बगावती सुरों को लेकर भाजपा सतर्क हो गई है। वहीं पानी की टंकी पर भोपाल से बीजेपी सांसद आलोक संजर ने सफाई देते हुए कहा, “वास्तु हर किसी की जरूरत है। ईश्वर और वास्तु दोनों पर हमारी आस्था है। बीच में भले तोड़ दी गई हो, जब जरूरत नहीं थी। लेकिन,अब जरूरत है तो बना दी। पानी हर किसी की जरूरत है। इस टंकी के बारे में जब बीजेपी दफ्तर में पूजन पाठ कराने वाले ज्योतिषाचार्य और वास्तुविद विष्णु राजौरिया से बातचीत की तो उन्होंने कहा, “मुख्य द्वार के बगल में पानी की टंकी बने रहने से घर और कार्यालय में रहती है सुख शांति रहती है। श्री योग और समृद्धि के लिए बनायी जाती है पानी की टंकी।

– ईएमएस