सबरीमाला : महिला के जाने की अफवाह मात्र से प्रदर्शनकारी हुए आक्रामक, फोटोग्राफर घायल


मंगलवार सुबह को 10-50 साल की उम्र के बाहर की किसी महिला के मंदिर में जाने की कोशिश की खबर फैलते ही लोग आक्रामक हो गये।
(Photo: IANS)

तिरुवनंतपुरम (ईएमएस)। दक्षिण भारत के राज्य केरल के प्रसिद्ध सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के भगवान अयप्पा के दर्शन करने के मामले में शीर्ष अदालत के हस्तक्षेप के बाद भी हालत सुधरे नहीं हैं। कोर्ट के महिलाओं को मंदिर के अंदर जाने की अनुमति देने के फैसले के बाद दोबारा मंदिर खुलने पर भी श्रद्धालुओं का प्रदर्शन जारी है।

ताजा प्रदर्शन मंगलवार सुबह को हुए, जब लोगों के बीच यह खबर फैल गई कि 10-50 साल की उम्र के बाहर की कोई महिला मंदिर में जाने की कोशिश कर रही है। हालांकि, बाद में साफ हुआ कि महिला 52 साल की ही थीं। प्रदर्शन इतने आक्रामक हो गए कि एक कैमरामैन घायल हो गया।

ज्ञात हो कि धार्मिक मान्यताओं के मुताबिक इस मंदिर में केवल 10 साल से कम और 50 साल से अधिक उम्र की महिलाओं को प्रवेश की इजाजत है। सुप्रीम कोर्ट ने पिछले महीने हर उम्र की महिलाओं को मंदिर में जाने की इजाजत दे दी थी लेकिन मंदिर और श्रद्धालुओं की ओर से विरोध प्रदर्शन के चलते कोई भी महिला अभी तक दर्शन करने नहीं पहुंच सकी है। वहीं, सोमवार को भी 30 साल की महिला अपने पति और बच्चों को लेकर पहुंची थीं, लेकिन उन्हें एंट्री नहीं मिली।

बताया गया है कि मंगलवार को लोगों के बीच यह खबर फैल गई कि 10-50 साल की उम्र की महिला ने मंदिर में जाने की कोशिश की है। इसके साथ ही विरोध प्रदर्शन शुरू हो गए जिनमें एक टीवी चैनल के कैमरामैन बीजू घायल हो गए। बाद में पुलिस ने पुष्टि की कि महिला की उम्र 52 साल है और वह थ्रिसूर की रहनेवाली हैं। वह अपने परिवार के साथ पहुंची थीं। बाद में उन्होंने पुलिस सुरक्षा में पूजा की। कोर्ट के फैसले के बाद दोबारा खोले गए मंदिर में विशेष पूजा श्री चित्रा अत्ता तिरुनाल चल रही है जो मंगलवार रात 10 बजे तक चलेगी। उसके बाद मंदिर फिर से बंद हो जाएगा। मंदिर में सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं। यहां 20 सदस्यीय कमांडो टीम और 100 महिलाओं समेत 2,300 कर्मियों को दर्शन और श्रद्धालुओं की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए तैनात किया गया है। पचास वर्ष से अधिक की आयु वाली कम से कम 15 महिला पुलिसकर्मियों को सन्निधानम में तैनात किया गया है।