अब डमी पेटीएम के जरिये हो रही ठगी की वारदातें


अब हाईटैक जालसाजों ने पेटीएम के जरिये ठगी की वारदातों को अंजाम देना शुरू कर दिया है।
Photo/Twitter
प्रदेश के इंदौर में सामने आये मामले, सायवर सेल ने दी अलर्ट रहने की सलाह

भोपाल। फोन पर ओपीटी नंबर पूछकर खाते से रकम उड़ाने, नकली नोट खपाने और एटीएम कार्ड का क्लोम बनाकर ठगी की वारदातों के साथ ही अब हाईटैक जालसाजों ने पेटीएम के जरिये ठगी की वारदातों को अंजाम देना शुरू कर दिया है। प्रदेश के इंदौर शहर में डमी पेटीएम के जरिये छात्रों द्वारा कई रेस्टोरेंट और होटलों को चपत लगाने के मामले सामने आये हैं। शातिर छात्र डमी पेटीएम के जरिये भुगतान करने का झांसा देने और अपने खाते से होटल संचालक के भुगतान करने का झांसा देते और अपने खाते से होटल संचालक के खाते में पैसा ट्रांसफर होने का स्क्रीन शाट भी मोबाइल खाते में पैसा पहुंचता नहीं थी।

जानकारी के मुताबिक इंदौर शहर में रेस्टोरेंट और बेकरी सायवर सैल अफसरों ने बताया कि डमी पेटीएम से अपना निशाना बनाया। सायवर सेल अफसरों ने बताया कि टीम ने सांई चौराहे पर स्थित एक रेस्टोरेंट संचालक की शिकायत पर करीब दर्जन भर स्कूली छात्र रेस्टोंरेंट में पार्टी करने या बेकरी से सामान खरीदने के बाद पैसे न होने की बात कहकर पेटीएम से पेमेंट करने की बात करते थे। इन छात्रों ने असली पेटीएम की तरह ही डेमी पेटीएम का साफ्टवेयर तैयार कर मोबाइल के कासन तोड़ कर रखा था। इस डमी पेटीएम की भुगतान प्रक्रिया भी ओरि‌जिनल पेटीएम जैसी थी। जब छात्र इस डमी पेटीएम में दुकान संचालक का नंबर डालते तो उसमें उसका नाम भी शो होने लगताऔर पेमेंट ट्रांसफर दिखाते हुए उसका राइट टिक भी ब्लु रंग का हो जाता था। शातिर छात्र उसका स्क्रीन शाट देखकर दुकानदार को दिखाकर कहते कि उसके खाते से पेमेंट चला गया है। लेकिन रकम दुकानदार के खाते में न पहुंचने पर इसे सर्वर प्राब्लम बनाकर दुकानदार के खाते में न पहुंचने पर वो इसे सर्वर प्राब्लम बताकर थोड़ी देर में पेमेंट करने का कहकर चले जाते। जब कई दुकानदारों के साथ ऐसी जालसाजी हुई तब शिकायत मिलने पर सायवर सेल ने स्कूली छात्रों को हिरासत में ले लिया। मामले की उजागर होने के बाद पेटीएम अधिकारियों का कहना है कि पेटीएम का कोई नकली वर्जन आया है। जिसके चलते वो कानूनी कार्यवाही करेंगे। साथ ही उन्होने किसी भी तरह की गड़बड़ी पर संदेह होने पर अपने कस्टूमर को तुरंत इसकी सूचना पुलिस मे देने की बात कही है। संभवत: प्रदेश में डमी पेटीएम के जरिये ठगी की पहली वारदात सामने आने पर सायबर सेल ने जहां आमजन को जागरूक करने के लिए अपील की है। वहीं उसने इसे लेकर इलेक्ट्रानिक्स एवं सूचना प्रौद्योगिकी को पत्र भी लिखा है।

– ईएमएस