संत-महात्माओं के बीच कुंभ मेले में लगा मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का कैंप


बड़े-बड़े शंकराचार्य, अखाड़ा और अन्य संत- महात्माओं के बीच कुंभ मेले में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का भी कैंप लग गया है।
Photo/Twitter

प्रयागराज। बड़े-बड़े शंकराचार्य, अखाड़ा और अन्य संत- महात्माओं के बीच कुंभ मेले में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का भी कैंप लग गया है। यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के इस कैंप में आने वाले महात्माओं एवं श्रद्धालुओं को योग की ट्रेनिंग दी जा रही है। इसके अलावा यहां राम कथा, यज्ञ, झांकियों के दर्शन सहित दूसरे कई आध्यात्मिक आयोजन भी किए जा रहे हैं। सीएम योगी के लिए कैंप में अलग से कुटिया भी बनाई गई हैं। कुटिया में योगी सीएम की हैसियत से नहीं, बल्कि महासभा के अध्यक्ष व नाथ संप्रदाय के प्रमुख एवं एक संत के रूप में आंशिक कल्पवास करेंगे।

कुंभ की भव्यता और दिव्यता का एहसास प्रयागराज में दाखिल होते ही होने लगता है, परंतु इसका असली रंग मेले के सेक्टर 15 में तैयार हो रहे अखिल भारतीय योगी महासभा के साथ में देखने को मिल रहा है। प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ योगी महासभा के अध्यक्ष हैं, तो इस लिहाज से यहां की सजावट बेमिसाल ही होगी। योगी आदित्यनाथ का कैंप लगभग 9 बीघा जमीन में तैयार हुआ है, जिसमें 3 बड़े पंडाल बनाए गए हैं। इन पंडालों में से एक में प्रदर्शनी लगी है, जिसमें प्रवचन, योग और कथाओं के साथ सांस्कृतिक कार्यक्रम भी किए जा रहे हैं, तो वहीं दूसरे पंडाल में नाथ संप्रदाय के बड़े संत महात्माओं को ठहराया गया है।

शेरनाथ नाथ संप्रदाय के संत कैंप की यज्ञशाला में पूरे समय लगभग 100 पुरोहित हवन व धार्मिक पाठ करते रहते हैं, जिसके साथ ही दूसरे धार्मिक आयोजन भी हो रहे हैं। इस कैंप में 35 फैमिली स्विस कॉटेज लगे हैं एवं 50 से ज्यादा साधारण कॉटेज बनाए गए हैं। वहीं सीएम योगी के लिए दो महाराजा कोठियों के साथ एक पूजा- घर, लाइब्रेरी एवं मीटिंग हॉल अलग से तैयार किया गया है। साथ ही कैंप में 100 से अधिक शौचालय भी बने हैं। हर दूसरे दिन सीएम योगी द्वारा फोन पर तैयारियों की जानकारी ली जाती है एवं कैंप की भव्यता व दिव्यता की हिदायत भी देते हैं। योगी आदित्यनाथ के सीएम बन जाने के बाद इस बार कैंप में आने वाले नाथ संप्रदाय के संतों में खासा उत्साह और उल्लास देखने को मिल रहा है। नाथ संप्रदाय के लोग इसे अपनी जमात की बड़ी उपलब्धि मान रहे हैं।

– ईएमएस