संक्षिप्त मुठभेड़ में एक बदमाश ढ़ेर, एक घायल, पुलिस ने अपहृत बच्चे को छुड़ाया


नई दिल्ली (ईएमएस)। दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने 25 जनवरी को दिलशाद गार्डन से नर्सरी क्लास के छात्र के अपहरण का मामला सुलझा लिया है। पुलिस ने एक मुठभेड़ के बाद अगवा किए बच्चे रिहानश को छुड़ा लिया है। इस कार्रवाई में एक बदमाश की मौत हो गई है, जबकि दूसरा घायल है। घायल बदमाश को जीटीबी अस्पताल में भर्ती कराया गया है। पुलिस ने इस मामले में तीसरे आरोपी नितिन को गिरफ्तार किया है। दरअसल 25 जनवरी की सुबह रिहानश अपनी बहन के साथ स्कूल बस से जा रहा था तभी अचानक दिलशाद गार्डन इलाके में बाइक सवार दो बदमाशों ने बस ड्राइवर के पैर में गोली मारकर रिहानश को अगवा कर लिया था। 28 जनवरी को जब

अपहरणकर्ताओं ने फिरौती के रूप में उसके परिजनों से 50 लाख रुपए की फिरौती मांगी। इसके बाद ही पुलिस को उनका सुराग मिला।
पुलिस ने 12 दिन की मशक्कत के बाद अपहर्ताओं की सही लोकेशन का पता लगाया। उनकी लोकेशन का पता लगने के बाद पुलिस की क्राइम ब्रांच ने सोमवार रात एक बजे साहिबाबाद की शालीमार सिटी के अबोय अपार्टमेंटड के फ्लैट नं-505 में दबिश दी। यहां मौजूद अपहर्ताओं को जब पता चला कि पुलिस ने उन्हें घेर लिया है, तो उन्होंने फायरिंग शुरू कर दी। पुलिस ने भी जवाबी फायरिंग की। फायरिंग में एक बदमाश रवि की मौत हो गई, जबकि दूसरा बदमाश पंकज घायल अवस्था में पकड़ लिया गया। पुलिस ने तीसरे आरोपी नितिन को भी गिरफ्तार कर लिया है। इस मुठभेड़ में क्राइम ब्रांच के इंस्पेक्टर विनय त्यागी की बुलेटप्रूफ़ जैकेट में भी एक गोली लगी। पुलिस ने बच्चे को सकुशल बरामद कर लिया है। एबोय अपार्टमेंट के गार्ड सुनील ने बताया कि रवि, पंकज अपहरणकर्ता यहां किराये पर 6 महीने से रह रहे थे।