दिल्ली सहित पूरा उत्तर भारत में कोहरे की चपेट में, विलंब से चल रही ट्रेनें, कई हवाई उड़ानें रद्द


राजधानी दिल्ली और एनसीआर में कोहरे और धुंध के कारण कई हवाई उड़ानें रद्द हो गईं और बहुत सी ट्रेन निर्धारित समय से देरी से चल रही हैं।
Photo/Twitter

नई दिल्ली। कड़ाके की सर्दी के चलते पूरा उत्तर भारत कोहरे की चपेट में है। राजधानी दिल्ली और राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (एनसीआर) में शुक्रवार को कोहरे और धुंध के कारण कई हवाई उड़ानें रद्द हो गईं और बहुत सी ट्रेन निर्धारित समय से देरी से चल रही हैं। खबरों के अनुसार, इंदिरा गांधी इंटरेशनल एयरपोर्ट से उड़ान भरने वाली 6 फ्लाइट कोहरे के कारण रद्द कर दी गईं और 68 फ्लाइट्स ने देरी से उड़ान भरी। पिछले 1 सप्ताह से भी अधिक समय से दिल्ली में ठंड और कोहरे का कहर जारी है। गुरुवार को भी कोहरे के कारण सुबह 7।30 बजे से सभी फ्लाइट्स को करीब 2 घंटे तक के लिए होल्ड पर कर दिया गया था। धुंध कम होने के बाद ही 9.30 के बाद ही उड़ानों का परिचालन शुरू किया गया। कोहरे से दिल्ली एयरपोर्ट पर गुरुवार सुबह दो घंटे तक फ्लाइट्स टेकऑफ नहीं कर पाईं। लगभग 200 उड़ानों में देरी से यात्रियों को काफी परेशानी हुई। हालांकि, एयरपोर्ट पर उड़ानों का उतरना जारी रहा। लैंडिंग के दौरान कम विजिबिलिटी के कारण 10 उड़ानों को डायवर्ट किया गया। मौसम विभाग का अनुमान है कि इस सप्ताह ठंड से राहत मिलने के आसार नहीं हैं।

गौरतलब है कि दिल्ली-एनसीआर में प्रदूषण के बदतर हालात को देखते हुए शुक्रवार को सीपीसीबी और ईपीसीए ने सख्त कदम उठाने का सुझाव दिया था। पिछले दो दिनों से दिल्ली में प्रदूषण लेवल काफी ज्यादा बढ़ गया है। इसको देखते हुए अब सीपीसीबी और ईपीसीए ने सख्त कदम उठाने की तैयारियां शुरू कर दी हैं। सीपीसीबी ने गुरुवार को जीआरओपी टास्क फोर्स की मीटिंग की और सुझाव दिए कि अगर शुक्रवार सुबह तक हालात नहीं सुधरते तो ट्रकों को बॉर्डर पर ही रोक दिया जाएगा। ईपीसीए ने भी इस सुझाव को मान लिया है। एक एयरलाइन के एग्जिक्यूटिव ने बताया, उड़ान की उम्मीद होने पर ही हम यात्रियों को विमान में बिठाते हैं। उड़ानों में उनके समय के आधार पर यात्रियों को बिठाया जाता है। हालांकि, यात्रियों के बैठने के बाद भी उड़ानों में देरी होने पर समस्या होती है। विमान में बैठने के बाद देरी होने पर भी यात्रियों को उतारना आसान नहीं होता क्योंकि उन्हें दोबारा सिक्योरिटी क्लीयरेंस लेना होता है। गुरुवार को भी इस वजह से विमान में यात्रियों को घंटों बैठना पड़ा।

– ईएमएस