विधानसभा चुनावों में यूपी के सीएम योगी बने हार्ट हिंदुत्व के प्रतीक


देश में हुए विधानसभा चुनावों में यूपी के सीएम योगी हार्ट हिंदुत्व के प्रतीक बनकर उभरे हैं।
Photo/Twitter

लखनऊ । देश में हुए विधानसभा चुनावों में यूपी के सीएम योगी हार्ट हिंदुत्व के प्रतीक बनकर उभरे हैं। भाजपा के इस फायरब्रांड नेता योगी आदित्यनाथ ने जब से उत्तर प्रदेश का मुख्यमंत्री पद संभाला है उसके बाद से उनकी लोकप्रियता में लगातार इजाफा होता आया है। सीएम योगी का पार्टी में भी लगातार कद बढ़ता जा रहा है। यहां तक कि जिस राज्य में विधानसभा के चुनाव होते हैं, वह बीजेपी के स्टार प्रचारकों में रहते हैं।

उनकी लोकप्रियता का अंदाजा आप इस बात से लगा सकते हैं कि ट्विटर पर वह बड़े-बड़े नेताओं को पछाड़ते नजर आ रहे हैं। ट्विटर पर ट्रेंड कर रहे नेताओं की सूची अगर देखें तो योगी आदित्यनाथ बहुत तेजी से लोकप्रियता की सीढ़ियां चढ़ते जा रहे हैं। ट्विटर ने सबसे ज्यादा सर्च किए और देखे गए नेताओं को लेकर अपने आंकड़े जारी किए हैं। इसमें योगी आदित्यनाथ चौथे नंबर पर हैं। सीएम योगी से पहले प्रधानमंत्री मोदी, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह हैं।

मध्य प्रदेश, राजस्थान, तेलंगाना और छत्तीसगढ़ में हो रहे विधानसभा चुनाव में योगी बीजेपी के चुनावी कैंपेन में अहम चेहरा रहे। पांच में से चार राज्यों में अकेले योगी आदित्यनाथ ने 70 सभाएं कीं। सीएम योगी ने सबसे ज्यादा 26 चुनावी सभाएं राजस्थान में कीं। वहीं, छत्तीसगढ़ में उन्होंने 19 चुनावी सभाएं की. मध्य प्रदेश में उन्होंने 17 चुनावी सभाओं को संबोधित किया। वहीं, तेलंगाना में सीएम योगी की 8 सभाएं हुईं। सीएम योगी की 70 सभाओं में ज्यादातर सभाएं ऐसी जगहों पर हुईं जो हिंदुत्व के लिहाज से बीजेपी के लिए मुफीद हो सकती थी। यानी ऐसी सीटें चुनी गईं जहां पर हिंदुत्व, मंदिर, भगवा एक मुद्दे के तौर पर था और यहां पर मुसलमानों की आबादी ज्यादा थी। इससे पहले योगी आदित्यनाथ ने कर्नाटक और गुजरात विधानसभा चुनाव में भी कई सभाओं को संबोधित किया। आंकड़ों के मुताबिक गुजरात की 35 में से 26 सीटों पर बीजेपी ने जीत हासिल की जहां पर योगी ने सभाएं की। कर्नाटक में भी योगी की सभाओं और सीट की जीत का अनुपात दूसरे नेताओं से बेहतर रहा। योगी आदित्यनाथ की मांग बतौर स्टार कैंपेनर देश के सभी राज्यों से आ रही है और बीजेपी इसे भुनाने में कोई कोई कसर नहीं छोड़ रही।

– ईएमएस