सीबीएसई की कक्षा 8, 9 और 10वीं में पढ़ाया जाएगा आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस विषय


केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) के स्कूली पाठ्यक्रम में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस को शामिल किया जाएगा।
Photo/Twitter

नई दिल्ली। केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) के स्कूली पाठ्यक्रम में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस को शामिल किया जाएगा। केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड की गवर्निंग काउन्सिल की बैठक में कक्षा 8, 9 और 10वीं में वैकल्पिक विषय के रुप में आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस विषय पढ़ाने का निर्णय लिया गया है। इसे स्किल के एक वैकल्पिक विषय के रूप में पढ़ाया जाएगा।

आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस एक ऐसी तकनीक है, जिसकी मदद से इंसानी दिमाग का काम मशीन के दिमाग के द्वारा किया जाता है। इसमें ड्राइवर लेस कार, डिसीजन मेकिंग विजुअल परसेप्शन इत्यादि आते हैं। इसकी उपयोगिता की बात करें तो आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस की मदद से शतरंज से लेकर कार तक बिना इंसान की मदद के खेला और चलाया जा सकता है।

बोर्ड ने इस संबंध में निर्णय लेते हुए कहा कि यह जरूरी है कि छात्र लेटेस्ट पढ़ाई के तौर-तरीकों से वाकिफ रहें। ऐसा करना बच्चों के मानसिक और शारीरिक विकास दोनों के लिए बेहतर है। जिन कक्षाओं में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस की पढ़ाई होगी उसके लिए सेलेबस जल्द ही तैयार किया जाएगा। पढ़ाई के अगले सेशन से शुरू होने की उम्मीद है। बोर्ड इस विषय की पढ़ाई के लिए स्कूलों को क्षमता निर्माण और ट्रेंड शिक्षकों की नियुक्ति में मदद करेगा। आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस को एक विषय के तौर पर बच्चों को पढ़ाने का विचार नीति आयोग के सेशन में आया जिसके बाद सीबीएसई ने इस बारे में गवर्निंग काउंसिल में निर्णय लिया। निर्णय लेने से पहले सीबीएसई ने अनेक विभागों और स्कूलों से इस संबंध में बात की। वर्तमान में देश में 20,299 स्कूल सीबीएसई से संबंद्ध हैं और विदेश में 220 स्कूल सीबीएसई से मान्यता प्राप्त हैं।

– ईएमएस