शनि अमावस्या को होगा साल का पहला सूर्य ग्रहण


नए साल का पहला सूर्य ग्रहण लगने जा रहा है। ग्रहण के समय सूर्य धनु राशि में होगा और सूर्य के साथ शनि, बुध और चंद्रमा भी इसी राशि में मौजूद होंगे।
Photo/Twitter

नई दिल्ली। नए साल का पहला सूर्य ग्रहण पहले सप्ताह में ही लगने जा रहा है। ग्रहण के समय सूर्य धनु राशि में होगा और सूर्य के साथ शनि, बुध और चंद्रमा भी इसी राशि में मौजूद होंगे। इसलिए ज्योतिषीय और आध्यात्मिक दृष्टि से इस ग्रहण को महत्वपूर्ण माना जा रहा है। ग्रहण में पूजा-पाठ और धार्मिक अनुष्ठान करना वर्जित माना जाता है लेकिन अच्छी बात यह है कि इस ग्रहण में पूजा-पाठ और धार्मिक कार्य करना बहुत ही उत्तम रहेगा, क्योंकि इस दिन शनि अमावस्या है और यह ग्रहण भारत में दृश्य नहीं होने के कारण सूतक के प्रभाव से मुक्त रहेगा।

खगोल विज्ञान के अनुसार 2019 का पहला मध्य-पूर्व चीन, जापान, उत्तरी तथा दक्षिणी कोरिया, उत्तर-पूर्वी रूस, मध्य-पूर्वी मंगोलिया, प्रशांत महासागर, अलास्का के पश्चिमी तटों में दिखाई देगा। यह खंडग्रास सूर्यग्रहण भारत के किसी भी हिस्से में नहीं देखा जा सकेगा। 2019 का पहला ग्रहण 5 और 6 जनवरी को लगने जा रहा है। दरअसल 5 जनवरी को सूर्यग्रहण का सूतक लगेगा, जबकि ग्रहण का आरंभ 6 जनवरी की सुबह में होगा। शास्त्रों के अनुसार सूर्य ग्रहण का सूतक ग्रहण से 12 घंटे पहले लग जाता है। ग्रहण का आरंभ 6 तारीख की सुबह 5 बजकर 4 मिनट पर होगा इसलिए सूतक 5 तारीख की शाम 5 बजकर 4 मिनट से मान्य होगा। ग्रहण का मघ्य सुबह 7 बजकर 11 मिनट पर होगा और ग्रहण समाप्त 9 बजकर 18 मिनट पर होगा।

ज्योतिषशास्त्र के अनुसार यह सूर्यग्रहण धनु राशि में और पूर्वाषाढ़ा नक्षत्र में लगने जा रहा है, इसलिए इस ग्रहण से सबसे अधिक प्रभावित धनु और पूर्वाषाढ़ा नक्षत्र में पैदा हुए लोग होंगे। इन राशि और नक्षत्र वालों को जनवरी के महीने में शारीरिक और मानसिक परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। इन लोगों को आर्थिक मामलों में खास तौर पर लेन-देन के मामले में सावधानी बरतने की जरूरत है।

– ईएमएस