500 से अधिक बच्चों ने एनएमसीजी बाल गंगा मेले में लिया भाग


एचसीएल फाउंडेशन की सहायता वाले नोएडा के सरकारी स्कूलों, संपर्क केंद्रों, चैम्पियनों और विद्वानों के ५०० से अधिक बच्चों ने हिस्सा लिया।

नई दिल्ली। राष्ट्रीय स्वच्छ गंगा मिशन (एनएमसीजी) ने एचसीएल फाउंडेशन और जर्मन विकास एजेंसी जीआईजेड (डोयशे जेसेलशाफ्ट फर इंटरनेशनल जूसामेनारबीट) के सहयोग से रविवार, ४ नवंबर, २०१८ को एचसीएल के नोएडा परिसर में बाल गंगा मेला आयोजित किया।

एचसीएल फाउंडेशन की सहायता वाले नोएडा के सरकारी स्कूलों, संपर्क केंद्रों, चैम्पियनों और विद्वानों के ५०० से अधिक बच्चों ने हिस्सा लिया। इसी दिन २००८ में गंगा नदी को भारत की राष्ट्रीय नदी घोषित किया था और यह दिन पवित्र नदी में नई जान डालने के बारे में लोगों को जागरूक करने, बच्चों को पर्यावरण के प्रति जागरूक करने तथा जिम्मेदार नागरिक बनाने के संबंध में शिक्षित करने के लिए समर्पित किया गया।

बाल गंगा मेले का उद्घाटन एनएमसीजी के महानिदेशक राजीव रंजन मिश्रा, सीएसआर की निदेशक सुश्री निधि पुंढीर और एससीएल फाउंडेशन की प्रमुख सुश्री मार्टिना बुरकार्ड, जीआईजेड के कार्यक्रम निदेशक तथा गौतमबुद्ध नगर के मुख्य विकास अधिकारी अनिल कुमार सिंह की मौजूदगी में जल संसाधन, नदी विकास और गंगा संरक्षण मंत्रालय में सचिव यू.पी. सिंह ने किया।

इस मेले का आयोजन जल और नदियों के महत्व के बारे में स्कूली बच्चों में जागरूकता पैदा करने के उद्देश्य से किया ताकि वे प्रदूषण रहित, स्वच्छ जल और जल सुरक्षा के महत्व को समझ सकें, साथ ही प्राकृतिक वातावरण के प्रति आदर जगाने के साथ ही बच्चों को परिवर्तन का प्रतिनिधि बनाने के लिए प्रोत्साहित किया जा सके जिससे वे नदी के कायाकल्प और जल संरक्षण के लिए अन्य लोगों को प्रेरित कर सकें। इस में भाग लेने वाले बच्चों ने दिन भर पानी की गुणवत्ता का परीक्षण, कचरे को अलग करने, संवादमूलक खेल, नुक्कड़ नाटक, रंगोली, पेंटिग, क्विज प्रतियोगिता और सिनेमा दिखाने सहित अनेक क्रियाकलापों में भाग लिया।

– ईएमएस