मोदी-योगी देंगे ७००० करोड़ के २ बड़े तोहफे, दिल्ली-एनसीआर के ३० लाख लोगों को होगा लाभ


मोदी सरकार और यूपी की योगी सरकार गाजियाबाद और नोएडा-ग्रेटर नोएडा को १४००० करोड़ रुपये से अधिक की सौगात देने जा रही है।
Photo/Twitter

नई दिल्ली। केंद्र में सत्तासीन मोदी सरकार और यूपी की योगी सरकार जनवरी महीने में गाजियाबाद और नोएडा-ग्रेटर नोएडा को १४००० करोड़ रुपये से अधिक की सौगात देने जा रही है। इसमें नोएडा-ग्रेटर नोएडा मेट्रो (५५०० करोड़) और दिलशाद गार्डन-न्यू गाजियाबाद बस अड्डा मेट्रो (१८०० करोड़) के दो मेगा प्रोजेक्ट भी हैं। दोनों जिलों में मेट्रो चालू होने से न केवल नोएडा, ग्रेटर नोएडा, बल्कि हापुड़ के साथ दिल्ली के भी लोगों को लाभ होगा। कुल मिलाकर इससे ३० लाख से अधिक लोग रोजाना लाभान्वित होंगे।

नोएडा-ग्रेटर नोेएडा को मिलेगी १२००० करोड़ की सौगात

उत्तर प्रदेश का नोएडा शहर वैसे ही चर्चा में बना रहता है, लेकिन आज कल विकास के मेगा शो के लिए शहर एक बार फिर से चर्चा में आ चुका है। इस साल की शुरुआत में ही नोएडा प्राधिकरण शहरवासियों को करीब १२ हजार करोड़ रुपये की कई बड़ी सौगात देने जा रहा है। इस कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व सूबे के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के आने की संभावना प्रबल हो गई है, क्योंकि कार्यक्रम आयोजन के लिए दो जगह चिह्न्ति कर तैयारियां शुरू कर दी गई हैं।

बता दें कि नोएडा प्राधिकरण विकास के मेगा शो के लिए अब तक ७७१४.३८ करोड़ रुपये आठ बड़ी परियोजनाओं के लोकार्पण को शामिल कर चुका है। इसमें ५५०० करोड़ की परियोजना नोएडा-ग्रेटर नोएडा एक्वा लाइन मेट्रो शामिल है, जबकि ४२७३.५८ करोड़ रुपये छह बड़ी परियोजनाओं का इसी माह शिलान्यास भी किया जाना है।

इसके लिए प्राधिकरण, ग्रेनो प्राधिकरण सहित नोएडा मेट्रो रेल कारपोरेशन (एनएमआरसी) के अधिकारी जुट गए हैं। अधिकारिक सूत्रों की मानी जाए तो इस कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के शामिल होने की बात कही जा रही है हालांकि, अभी उनके आने का समय नहीं मिल सका है। इसमें दोनों को ही अधिकारियों की ओर से कार्यक्रम में शामिल होने का आमंत्रण भेजा जा चुका है।
अधिकारियों ने कार्यक्रम के आयोजन के लिए १५ से २५ जनवरी के बीच का समय आरक्षित कर दिया है। कार्यक्रम स्थल के लिए भी दो स्थानों को चिह्न्ति किया गया है। पहला सेक्टर-५१ मेट्रो स्टेशन पार्क व दूसरा ग्रेटर नोएडा स्थित मेट्रो डिपो है, लेकिन अधिकारियों ने अभी किसी भी कार्यक्रम स्थल को फाइनल नहीं किया गया है। कार्यक्रम के आयोजन को लेकर तैयारी अवश्य शुरू कर दी गई है।

नएमआरसी की ओर से एक्वा लाइन उद्घाटन को लेकर २.५ करोड़ रुपये का बजट पहले तैयार कर एक निजी एजेंसी को चुन लिया गया है।
वहीं, दिलशाद गार्डन से न्यू गाजियाबाद बस अड्डा तक मेट्रो का संचालन भी २०-२६ जनवरी के बीच होना है। नोएडा और गाजियाबाद के मेट्रो प्रोजेक्ट का उद्घाटन एक साथ हो सकता है। दिलशाद गार्डन से न्यू बस अड्डा कॉरिडोर पर दिसंबर में मेट्रो दौड़ाने के प्रयास तेज हो गए हैं।

फेज-दो के तहत ९.४१ किलोमीटर के इस कॉरिडोर का निर्माण २०१४ से चल रहा है। इस कॉरिडोर को बनाने में २००० करोड़ करोड़ रुपये से ज्यादा का खर्च आया है। इस पर आठ स्टेशन बनाए गए हैं। गाजियाबाद में चलने वाली इस मेट्रो प्रोजेक्ट के पूरे होने से ६० लाख लोगों को फायदा होगा। जानकारों की मानें तो एक बड़ी संख्या में नौकरी और व्यवसाय के लिए दिल्ली और नोएडा में लोग रोजाना अप डाउन करते हैं। मेट्रो के निर्माण होने के साथ में कई रूट पर फायदा होगा, खासकर गाजियाबाद के साथ इससे सटे नोएडा के लोगों को भी।

दिलशाद गार्डन से गाजियाबाद नया बस अड्डा तक मेट्रो तक कुल आठ स्टेशन होंगे। ये स्टेशन हैं शहीद नगर, राजबाग, राजेंद्र नगर, श्याम पार्क, मोहननगर, अर्थला, हिंडन रीवर और गाजियाबाद बस अड्डा। मेट्रो के इस सेक्शन के शुरू होने से गाजियाबाद के शहीद नगर, साहिबाबाद, राजेंद्र नगर आदि में रहने वाले लोगों को सीधा फायदा होगा।

यह पहली ऐसी मेट्रो लाइन है, जो गाजियाबाद के अंदरूनी इलाकों को भी मेट्रो नेटवर्क से कनेक्ट कर देगी। यह कॉरिडोर साहिबाबाद इंडस्ट्रियल एरिया से भी होकर गुजरेगा। दिलशाद गार्डन और साहिबाबाद के बीच लास्ट माइल कनेक्टिविटी में भी सुधार होगा। मोहन नगर से दिलशाद गार्डन के बीच भी कनेक्टिविटी सुधर जाएगी।

– ईएमएस