शराब कारोबारी विजय माल्या भगोड़ा आर्थिक अपराधी घोषित, पीएमएलए कोर्ट ने अपील खारिज की सरकार जब्त कर सकेगी संपत्ति


विजय माल्या को आर्थिक भगोड़ा घोषित किए जाने के बाद मोदी सरकार को उसकी संपत्तियों को जब्त करने का अधिकार मिल सकेगा।
Photo/Twitter

नई दिल्ली। देश के कई बैंकों से 9,000 करोड़ से अधिक का कर्ज लेकर भागे शराब कारोबारी विजय माल्या को शनिवार को बड़ा झटका लगा। शनिवार को स्पेशल प्रिवेन्शन ऑफ मनी लॉन्ड्रिग ऐक्ट कोर्ट ने आर्थिक भगोड़ा अपराधी घोषित किया है। विजय माल्या को आर्थिक भगोड़ा घोषित किए जाने के बाद मोदी सरकार को उसकी संपत्तियों को जब्त करने का अधिकार मिल सकेगा। यही नहीं पीएमएलए कोर्ट ने विजय माल्या की अपील करने के लिए कुछ समय दिए जाने की मांग को भी खारिज कर दिया। बता दें कि विजय माल्या को लंदन की वेस्टमिन्सटर कोर्ट ने ब्रिटेन सरकार को भारत प्रत्यर्पित करने का आदेश दिया है।

दरअसल मोदी सरकार के द्वारा बनाए नए अधिनियम के तहत जिस आर्थिक भगोड़ा घोषित किया जाता है, उसकी सम्पत्ति तुरंत प्रभाव से जब्त कर ली जाती है। आर्थिक भगोड़ा वह होता है जिसके विरुद्ध सूचीबद्द अपराधों के लिए गिर‌फ्तारी का वारंट जारी किया गया होता है। इसके साथ ही ऐसा व्यक्ति भारत को छोड़ चुका है, ताकि यहां हो रही आपराधिक कार्रवाई से बच सके या वह विदेश में हो और इस कार्रवाई से बचने के लिए भारत आने से मना कर रहा है। इस अध्यादेश के तहत 100 करोड़ रुपये से ज्यादा के धोखाधड़ी, चेक अनादर और लोन डिफाल्ट के मामले आते हैं। भारी कर्ज में दबी एयरलाइंस किंगफिशर के मालिक विजय माल्या पर आरोप है कि वह कई बैकों से करीब 9,990 करोड़ रुपये का लोन लेकर फरार हैं। फिलहाल माल्या लंदन में हैं और उसे भारत प्रत्यर्पित करने का आदेश दिया जा चुका है। माल्या पर वह केस भारत सरकार की तरफ से सीबीआई और ईडी ने ही किया था।

– ईएमएस