आरएसएस के मंच पर 70 देशों को न्योता, पाक से किनारा


rss logo

नई दिल्ली । राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) का ‘भविष्य का भारत’ कार्यक्रम पिछले काफी दिनों से चर्चा का विषय बना हुआ है। इस कार्यक्रम में हिस्सा लेने के लिए संघ की ओर से दुनियाभर के कुल 70 देशों को निमंत्रण भेजा जाएगा। गौर करने वाली बात ये है कि संघ की ओर से पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान को निमंत्रण नहीं भेजा जाएगा। इस कार्यक्रम में एक पूरी लेक्चर सीरीज़ होगी, जिस आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत भी संबोधित करने वाले है। आरएसएस जल्द ही सभी चिन्हित देशों को आधिकारिक तौर पर निमंत्रण देना शुरू करेगा। ये तीन दिन का कार्यक्रम 17 सितंबर से शुरू होगा।

संघ के इस कार्यक्रम का आयोजन अगले सप्ताह राजधानी दिल्ली में होगा। मोहन भागवत इस कार्यक्रम के दौरान आम जनता से भी सीधे संवाद कर सकते हैं। बता दें कि ये वहीं कार्यक्रम है जिसमें देश के कई राजनीतिक दलों के प्रतिनिधियों को बुलाने की चर्चा हो रही है। इस कार्यक्रम में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को भी बुलाने की बात की जा रही थी। आरएसएस का कहना है कि कई देशों के उच्चायोग को निमंत्रण भेजा जाएगा, लेकिन पाकिस्तान को नहीं भेजा जाएगा।इस कार्यक्रम में देश के भविष्य और उसमें आरएसएस के रोल के मुद्दे पर चर्चा की जाएगी। कार्यक्रम के पहले दिन मोहन भागवत का भाषण होगा, जिसमें वह आरएसएस के विचार को सभी के सामने रखने वाले है। आरएसएस की ओर से आयोजित किया गया ये अपने आप में पहला कार्यक्रम होगा।