मालदीव के अखबार ने मोदी को बताया मुस्लिम विरोधी


  • चीन को बेहतर साथी
  • भारत पर लगाया मालदीव में तख्ता पलट की साजिश का आरोप

नई दिल्ली (ईएमएस)। मालदीव के एक समाचार पत्र में भारत विरोधी संपादकीय से नया राजनीतिक तूफान खड़ा हो गया है। इस संपादकीय में मोदी को कट्टर हिंदूवादी बताते हुए मुस्लिम विरोधी बताया गया है। स्थानीय धिवेही भाषा में निकलने वाले एक समाचारपत्र में भारत को मालदीव का सबसे बड़ा दुश्मन बताते हुए चीन को ‘नया बेस्ट फ्रेंड’ करार दिया गया है।

राष्ट्रपति अब्दुल्ला यमीन का मुखपत्र माने जाने वाले इस समाचार पत्र में भारत पर राष्ट्रपति यमीन सरकार के खिलाफ सैन्य तख्तापलट की साजिश रचने के अलावा कश्मीर और श्रीलंका में अंतरराष्ट्रीय कानूनों का उल्लंघन करने का भी आरोप लगाया गया है। मालदीव डेमोक्रेटिक पार्टी (एमडीपी) की अगुवाई में विपक्षी पार्टियों ने इस संपादकीय के खिलाफ प्रदर्शन करते हुए राष्ट्रपति अब्दुल्ला यमीन के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। उनके अनुसार यह समाचार पत्र राष्ट्रपति का मुखपत्र है।

इसके संपादकीय को छापने से पहले राष्ट्रपति कार्यालय से मंजूरी मिलती है। एमडीपी के नेता और मालदीव के पूर्व मंत्री अहमद नसीम ने बताया कि इस तरह के संपादकीय चीन को खुश करने के मकसद से लिखे जा रहे हैं, जो सही नहीं है। भारत के साथ मिल कर चलने में भी मालदीव का भला है। पूर्व राष्ट्रपति मोहम्मद नशीद और मौमून अब्दुल गयूम भी संपादकीय के बाद भारत के ही पक्ष में खड़े हो गए हैं। उन्होंने कहा कि भारत हमेशा से मालदीव का अच्छा दोस्त रहा है, जबकि संपादकीय में उसे दुश्मन के तौर पर दिखाया गया है। कोई भी इससे सहमत नहीं होगा।