फिर टला राहुल गांधी के कांग्रेस अध्यक्ष बनने का एलान


अब गुजरात चुनाव के बाद होगा फैसला

नई दिल्ली (ईएमएस)। कांग्रेस और राजनीतिक गलियारों में ऐसी चर्चा अक्सर चलती रहती है कि राहुल गांधी कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष बनाए जा सकते हैं। पार्टी के कुछ नेताओं ने भी इसके संकेत दिए थे कि सोनिया गांधी की जगह जल्द ही राहुल पार्टी की कमान संभाल लेंगे। अब राहुल के पार्टी अध्यक्ष बनने के औपचारिक एलान में कुछ और देरी हो सकती है। कांग्रेस वर्किंग कमेटी की सोनिया गांधी के साथ बैठक के बाद कहा गया कि पार्टी के अंदर बदलाव की प्रक्रिया अब गुजरात चुनावों के बाद ही होगी। पहले कांग्रेस नेताओं की तरफ से बार-बार ऐसे संकेत दिए जा रहे थे कि राहुल गांधी को दिवाली के बाद औपचारिक तौर पर पार्टी का अध्यक्ष नियुक्त किया जाएगा।

गुजरात और हिमाचल प्रदेश के चुनावों से पहले ही पार्टी की कमान राहुल अपने हाथों में ले लेंगे। इन दावों के पीछे एक मंशा यह भी थी कि गुजरात चुनावों में प्रचार के दौरान राहुल गांधी को पार्टी अध्यक्ष के चेहरे के तौर पर पेश किया जाएगा। घोषणा में हो रही देरी के बाद माना जा रहा था कि हिमाचल प्रदेश चुनावों के बीच 9 से 19 नवंबर के दौरान भी यह महत्वपूर्ण एलान हो सकता है। बता दें कि 19 नवंबर को पार्टी की कद्दावर नेता और देश की पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की जयंती भी होती है। अभी की स्थिति को देखकर ऐसा लग रहा है कि अब यह एलान फिलहाल संभव नहीं है। सोनिया गांधी संक्षिप्त दौरे पर गोवा में हैं। कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी भी चुनाव प्रचार के लिए गुजरात में हैं।

पार्टी से जुड़े अंदरूनी सूत्रों का कहना है कि कांग्रेस वर्किंग कमेटी की बैठक और चुनाव की प्रक्रिया में लगने वाले समय के कारण राहुल के अध्यक्ष पद की कमान संभालने की तारीख को आगे बढ़ा दिया है। गुजरात चुनावों में प्रचार को देखते हुए भी यह फैसला लिया गया। पार्टी के एक वरिष्ठ नेता ने बताया, गुजरात चुनावों से पहले यदि पार्टी नेतृत्व में बदलाव किया जाता तो चुनाव रणनीति और प्रचार से ध्यान बंट सकता था। कार्यकर्ताओं पर इसका विपरीत प्रभाव भी पड़ सकता था और यह चुनाव से ध्यान बंटाने वाला होता। इन सभी बातों को ध्यान में रखकर ही एलान को आगे के लिए टाल दिया गया।