नगर में निकली शौर्ययात्रा के दौरान हुआ पथराव


– वाहनों को किया आग के हवाले, पुलिस ने छोड़े आंसू गैस के गोले
– जिला कप्तान की सूझबूझ से पुलिस पाया स्थिति पर काबू
– शहर में धारा १४४ लागू

शाजापुर (ईएमएस)। शनिवार को महाराणा प्रताप जयंती पर राजपूत समाज द्वारा नगर में शौर्य यात्रा निकाली गई। यह शौर्य यात्रा जैसे ही नईसडक़ पर पहुंची वहां डीजे बंद करने की बात को लेकर दूसरे सम्पद्राय के लोग भडक़ गए और देखते ही देखते पथराव कर दिया। वाहनों को आग के हवाले कर दिया गया। पुलिस ने भीड़ को नियंत्रित करने के लिए लाठियां भी भांजी और आंसू गैस के गोले भी छोड़े। जिला प्रशासन द्वारा शहर में धारा १४४ लागू कर दी गई है। अब स्थिति नियंत्रण में है।

सुबह जहां मुस्लिम समाजजनों द्वारा ईदगाह पर ईद का पर्व धूमधाम के साथ मनाया गया वहीं। राजपूत समाज द्वारा महाराणा प्रताप जयंती के अवसर पर नगर में शौर्य यात्रा निाकली गई। दोपहर के समय यह शौर्य यात्रा नगर के नईसडक़ क्षेत्र में पहुंची। तभी दूसरे सम्प्रदाय के लोग डीजे बजा रहे थे। पुलिस द्वारा उन्हें डीजे बंद करने के लिए कहा गया। कुछ देर तो डीजे बंद कर दिया गया लेकिन बाद में दूसरे सम्प्रदाय के लोगों द्वारा पत्थरबाजी शुरु कर दी गई। देखते ही देखते ही स्थिति बिगडऩे लगी। पुलिस ने लाठियां भांजकर भीड़ को नियंत्रित किया। वहीं आसू गैस के गोले भी छोड़े। अचानक हुई इस पत्थरबाजी से लोग घबरा गए और इधर-उधर भागने लगे। कुछ ने इसका विरोध भी किया और तनाव हो गया। देखते ही देखते हिंसा भडक़ गई। दुकानें धड़ाधड़ बंद होने लगीं। पुलिस ने तुरंत स्थिति को संभालने का प्रयास किया, लेकिन तब तक चार वाहनों को आग के हवाले कर दिया गया था। पुलिस ने भीड़ को तितर-बितर करने के लिए आंसू गैस के गोले दागे। बाद में शहर में धारा 144 लागू कर दी गई। फिलहाल स्थिति नियंत्रण में है। घटना में किसी के हताहत होने की सूचना फिलहाल नहीं है। 5 वाहन फूंके, पथराव हुआ। बाजार भी पूरी तरह से बंद हो गया। राजपूत समाज की शोभायात्रा निकल रही थी, इसी दौरान एक वर्ग के लोगों ने पथराव कर शुरू दिया, जिससे भारी तनाव हो गया। भीड़ को तितर बितर करने के लिए आंसू गैस छोड़ी। मौके पर भारी संख्या में मौजूद दोनों पक्ष के लोग एक दूसरे पर पथराव करने लगे। इस दौरान दो पहिया वाहनों सहित ऑटो रिक्शा में भी आग भी लगा दी गई। पुलिस ने स्थिति संभालने के लिए आंसू गैस के गोले भी छोड़े। नई सडक़ से लेकर आज़ाद चौक तक का बाजार बंद है। शाजापुर में धारा 144 लागू करते हुए दुकानें बंद कराई गई हैं। पुलिस के साथ आला अधिकारी उपद्रवियों को तलाशने में जुटे हैं। इधर जिला कलेक्टर श्रीकांत बनौठ, पुलिस अधीक्षक शैलेंद्रसिंह चौहान भी घटना स्थल पर पहुंच गए थे और स्थिति पर नियंत्रण किया।

शाजापुर नगरीय सीमा में धारा 144 के तहत निषेधाज्ञा लागू

शाजापुर नगर में नई सडक़ स्थित भूतेश्वर महादेव मंदिर के पास दो समुदाय के बीच तनाव की स्थिति निर्मित होने के कारण जिला दण्डाधिकारी एवं कलेक्टर श्रीकांत बनोठ ने शाजापुर नगरीय क्षेत्र में लोक व्यवस्था को बनाए रखने एवं आम नागरिकों के जीवन तथा संपत्ति की सुरक्षा के लिए भारतीय दण्ड प्रक्रिया संहिता 1973 की धारा 144 के तहत शाजापुर नगरीय क्षेत्र की सीमा में 16 जून से आगामी आदेश तक निषेधाज्ञा लागू की है। निषेधाज्ञा के आदेश अनुसार प्रतिबंध अवधि में पांच या पॉंच से अधिक व्यक्ति एक साथ किसी भी स्थान पर एक ही समय में एकत्र नहीं होंगे। किसी भी प्रकार के शस़्त्र, लाठी, ज्वलनशील पदार्थ या अन्य हथियार किसी भी व्यक्ति द्वारा धारित नहीं किया जाएगा। यह आदेश पुलिस बल, लोक व्यवस्था एवं कानून व्यवस्था में लगे हुए शासकीय सेवकों पर लागू नहीं होगा। प्रतिबंधात्मक आदेश तत्काल प्रभाव से लगाया गया है। परिस्थितिवश समय की कमी को देखते हुए प्रतिबंधात्मक आदेश एक पक्षीय रूप से पारित किया गया है। आदेश का उल्लघन करने वालों के विरूद्ध भारतीय दण्ड संहिता 1860 की धारा 188 के तहत कार्यवाही की जाएगी।