क्षमा सागर महाराज जी का समाधी मरण


सागर । आचार्य श्री १०८ विद्यासागर महारजी के परम शिष्य मुनि श्री १०८ क्षमा सागर जी महाराज का समाधि मरण शुक्रवार सुबह ५ बजे हो गया है। महाराज श्री का समाधि मरण सागर स्थित वर्णी भवन मोराजी में हुआ। श्री क्षमा सागर की सल्लेखना विधि के लिए मुनि श्री महासागर की ससंघ सागर पहुंचे। मुनिश्री की अंतिम यात्रा के हजारों श्रद्धालुओं ने दर्शन किए। अंतिम यात्रा में विधायक शैलेन्द्र जैन सहित हजारों श्रद्धालु मौजूद रहे।
गौरतलब है कि मुनिश्री का स्वास्थ्य लंबे समय से खराब था। मुनिश्री क्षमा सागर का जन्म २० सितंबर १९५७ को हुआ था। उन्होंने सागर विश्वविद्यालय से ही उच्च शिक्षा प्राप्त की थी। मनिश्री ने २३ साल की उम्र में मोक्ष मार्ग पर चलने के लिए आचार्य विद्यासागर महाराज जी से दीक्षा प्राप्त की थी। सागर से मुनि श्री का काफी जुड़ाव था। आचार्य विद्यासागर महाराज के संघ में उच्च शिक्षित, प्रखर वक्ता, ओजस्वी वाणी तथा सरल सोम्य व्यवहार के कारण देश भर में उनके लाखों भक्त थे।