आसाराम को झटका, नहीं मिली जमानत


नई दिल्ली। नाबालिग से यौन शोषण के आरोपी आसाराम को सुप्रीम कोर्ट झटका लगा है। मंगलवार को शीर्ष अदालत ने
चिकित्सा के आधार पर जमानत देने से इन्कार कर दिया। साथ ही सुप्रीम कोर्ट ने जोधपुर की अदालत से कहा है कि वह यौन शोषण मामले की सुनवाई में तेजी लाए।
न्यायर्मूित टी एस ठाकुर की अध्यक्षता वाली तीन सदस्यीय खंडपीठ ने कहा कि हमें अखिल भारतीय आर्युिवज्ञान संस्थान (एम्स) के विशेषज्ञों की रिपोर्ट को खारिज करने का कोई आधार नहीं दिखता।
आसाराम ने अपनी बीमारी को आधार बनाते हुए जमानत की मांग की थी, जिसके लिए एम्स में मेडिकल बोर्ड का गठन किया गया था। इसके बाद आसाराम को पुलिस सुरक्षा में जांच के लिए दिल्ली लाया गया था। पिछली सुनवाई में एम्स की रिपोर्ट देखने के बाद कोर्ट ने कहा था कि अभी आसाराम को फिलहाल ऑपरेशन की जरूरत नहीं है।
कोर्ट ने पहले ही कह दिया है कि इस मामले में जब तक अहम गवाहों के बयान नहीं हो जाते, आसाराम को जमानत नहीं दी जा सकती। सुप्रीम कोर्ट को बताया गया था कि निचली अदालत में पीडिता की गवाही हो चुकी है जबकि उसके पिता की गवाही होनी है। इस पर शीर्ष अदालत ने निचली अदालत को जल्द से जल्द सुनवाई पूरी करने का निर्देश दिया।