मौसम में उतार-चढ़ाव से बिगड़ न जाए सेहत


बच्चों-बुजुर्गों के लिहाज से मौसम सेंसिटिव

नई दिल्ली (ईएमएस)। प्रदूषण और यह मौसम आपकी सेहत बिगाड़ सकता है। खासकर बच्चों-बुजुर्गों के लिहाज से यह मौसम काफी सेंसिटिव है। सुबह के समय प्रदूषण और स्मॉग ज्यादा रहता है। ऐसे में घर से बाहर निकलते समय मास्क जरूर पहनें। इस मौसम में स्वाइन फ्लू का खतरा ज्यादा रहता है। इसलिए प्रेग्नेंट महिलाएं हर 6 माह में स्वाइन फ्लू की वैक्सीन जरूर लगवाएं। अपने हाथ साफ रखें। उन्हें कुछ भी छूने के बाद जरूर धुलें, ताकि कीटाणु पैर न पसार सकें। यही कीटाणु मौसम की बीमारियों को जन्म देकर उन्हें तीव्रता से फैलाते हैं।

इनमें आपके हाथों का रोल सबसे ज्यादा होता है। अपने आसपास भी सफाई बनाए रखें। आजकल शादी व पार्टियां खूब हो रही हैं। यह मौसम खाने-पीने के लिहाज से काफी अच्छा माना जाता है, लेकिन खाने-पीने में ख्याल न रखने से उल्टी, दस्त आदि के शिकार हो सकते हैं। इसकी वजह फूड पॉयजनिंग की समस्या हो सकती है। यह मौसम बच्चों के लिए काफी संवेदनशील है। हवा में मौजूद वायरस सक्रिय हो जाते हैं। कुछ माता-पिता बच्चों को जरूरत से ज्यादा कपड़े पहना देते हैं, जिससे उन्हें स्किन संबंधी दिक्कत हो सकती है। बच्चों की सफाई पर ठीक से ध्यान दें।

प्रेग्नेंट महिलाएं व बच्चे सुबह-शाम ठंड के समय खुद को कवर करके घर से निकलें। बच्चों को गर्म कपड़े पहनाएं, जिससे वे इंफेक्शन से बच सकें। उनमें इम्युनिटी पावर कम होती है और वे इन्फेक्शन की चपेट में जल्दी आते हैं। इस मौसम में डायबीटीज से पीड़ित व्यक्तियों को खास सावधानी बरतने की जरूरत होती है। शुगर से परहेज करें और दवाओं का नियमित रूप से सेवन करें, नहीं तो उन्हें अटैक पड़ सकता है। यह अटैक ब्रेन का भी हो सकता है और हार्ट का भी।