मस्तिष्क में विभिन्नता की पहचान से ओसीडी का उपचार संभव


शोधकर्ताओं ने पाया कि मस्तिष्क में विभिन्नताओं की पहचान चिकित्सकों को ओसीडी के उपचार के लिए की गयी सर्जरी में सकारात्मक प्रतिक्रिया की भविष्यवाणी में सहायक हो सकती है। ओएसडी एक प्रकार का मानसिक विकार है जिसमें पीड़ित व्यक्ति किसी काम को या बात को बार-बार दोहराता है एवं अनावश्यक रूप से बीच में अपनी विचारों को प्रकट करता है। अध्ययन में पाया गया कि आंतरिक सिंगुलेट कार्रेक्स की रचना एवं संलग्नता इस बात की भविष्यवाणी कर सकती है कि मरीज सर्जिकल उपचार की प्रतिक्रिया देगा। न्यूयार्वâ के कोलंबिया विश्वविद्यालय के शोेधकर्ता गैरेट बैंकस ने बताया कि ये परिणाम सुझाव देते हैं कि मरीज में न्यूरोएनारामिकल विभिन्नता के कारण व्यक्ति की प्रतिक्रिया स्टीरियो टाइप प्रक्रिया हो सकती है।