ऑस्कर भेजी जाए ‘द‍ि एक्सीडेंटल प्राइम मिन‍िस्टर’ : अनुपम खेर


फिल्म में पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन स‍िंह का क‍िरदार न‍िभा रहे अनुपम खेर का कहना है कि इसे ऑस्कर में भेजना चाह‍िए।
Photo/Twitter
व‍िवाद नहीं सही मायनों में तो बहस होनी चाह‍िए : अक्षय खन्ना

नई दिल्ली। अनुपम खेर अभिनीत और संजय बारू की किताब पर बनी फिल्म ‘द‍ि एक्सीडेंटल प्राइम मिन‍िस्टर’ के ट्रेलर को लेकर तमाम तरह के विवाद सामने आ रहे हैं। ट्रेलर पर प्रतिबंध लगाने की भी मांग हुई है। दिल्ली हाईकोर्ट में एक याच‍िका दायर की गई है। इस बीच फिल्म में पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन स‍िंह का क‍िरदार न‍िभा रहे अनुपम खेर का कहना है कि इसे ऑस्कर में भेजना चाह‍िए। अनुपम खेर ने एक इंटरव्यू में अपने व‍िचार रखे। उन्होंने कहा, कब तक हम भारत की गरीबी को बेचेंगे, भारत के पिछड़ेपन को, भारत के पिछड़े वर्ग, देश के हाथी या बंदरों को? ये एक ऐसी फिल्म है जो मॉडर्न भारत के राजनीति को दिखाती है। जिसे शानदार डायरेक्टर, प्रोड्यूसर और एक्टर्स ने बनाया है। हमें ऐसी फिल्मों को ऑस्कर में भेजना चाहिए।

उधर, फिल्म पर उठे व‍िवाद पर अक्षय खन्ना का कहना है कि जिसे आप लोग व‍िवाद कह रहे हैं उसे मैं बहस का नाम दूंगा। सही मायनों में तो बहस होनी चाह‍िए। किसी नई चीज के आने पर अगर बहस नहीं होती है तो वो न‍िराश कर देने वाली बात है। उन्होंने कहा, चाहे यह मामले के पक्ष में हो या इसके खिलाफ हो, बहस को स्वीकार किया जाना चाहिए। मैं इसकी सराहना करता हूं, क्योंकि यह तय करने का अधिकार लोगों का है कि ऐसी फिल्में बनाई जानी चाहिए या नहीं।

अक्षय ने कहा, यह पहली फिल्म है, जो कि हालिया समय के नेताओं पर बनी है, उनके असली नाम हैं और सच्ची घटनाओं पर आधारित है। ये घटनाएं सार्वजनिक हैं और लोगों को इसके बारे में बखूबी पता है। बेशक, लोगों की अपनी राय होगी और वे सोशल मीडिया, मेनस्ट्रीम मीडिया या लेख लिखकर इसके बारे में खुद को व्यक्त कर सकते हैं। फिल्म में दिग्गज अभिनेता अनुपम खेर मनमोहन सिंह का किरदार निभा रहे हैं। अक्षय खन्ना, संजय बारू के किरदार में हैं, जिन्होंने 2004 से 2008 तक प्रधानमंत्री के मीडिया सलाहकार के तौर पर काम किया था।

– ईएमएस