एक बार फिर विवादों में घिरी शाहरुख खान की फिल्म जीरों


अगले महीने रिलीज होने वाली शाहरुख खान की फिल्म जीरो पर एक बार फिर विवाद खड़ा हो गया है।
Photo/YouTube

मुंबई। अगले महीने रिलीज होने वाली शाहरुख खान की फिल्म जीरो पर एक बार फिर विवाद खड़ा हो गया है। फिल्म के निर्माताओं और अभिनेता शाहरुख खान के खिलाफ दायर याचिका पर 30 नवंबर को मुंबई हाई कोर्ट सुनवाई करेगा। फिल्म के खिलाफ दायर याचिका में दावा किया गया है ट्रेलर से सिख समुदाय की भावनाएं आहत हुई है। इस महीने की शुरुआत में वकील अमृतपाल सिंह खालसा ने याचिका दायर करते हुए कोर्ट से फिल्म के निर्देशक और निर्माताओं को उस सीन को हटाने का निर्देश देने को कहा था, जिसमें शाहरुख ने कृपाण पहनी हुई है। साथ ही याचिका में केंद्रीय फिल्म प्रमाणन बोर्ड (सीबीएफसी) से फिल्म को प्रमाणपत्र ना देने और अगर दे दिया है, तो उस रद्द करने की भी अपील की है। सोमवार को न्यायमूर्ति बी पी धर्माधिकारी और न्यायमूर्ति एस वी कोतवाल की खंडपीठ के समक्ष खालसा में याचिका का उल्लेख किया, जिस पर 30 नवंबर की सुनवाई की तारीख तय की गई है।

दायर याचिका बताया गया है कि रिलीज हुई फिल्म के ट्रेलर में शाहरुख खान बनियान और शॉर्ट्स के साथ गले में 500 के नोटों की माला एवं तिरछी कृपाण डाले नज़र आ रहे हैं। खालसा का कहना है कि कृपाण केवल रहमत मर्यादा (सिख धर्म अपनाने) के बाद ही पहनी जाती है। बता दें कि इससे पहले भी शाहरुख खान की फिल्म जीरो विवादों में आ चुकी है। उस वक्त दिल्ली से अकाली दल के विधायक मनजिंदर सिंह सिरसा ने शाहरुख खान एवं अन्य लोगों की के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई थी। इसके बाद फिल्म मेकर्स ने एक बयान जारी करते हुए कहा था कि फिल्म में किसी भी धर्म या समुदाय की भावनाओं को आहत नहीं किया गया है। बयान में निर्माताओं ने कहा कि फिल्म की टीम आपकी भावनाओं का सम्मान करती है और फिल्म में कृपाण को नहीं दिखाया गया है। फिल्म के अंदर सिख समुदाय की भावनाओं का खास खयाल रखा गया है। हमें उम्मीद है कि जिंदगी के जश्न को दर्शाती इस फिल्म का आप भी स्वागत करेंगे।

– ईएमएस