गुरमीत राम रहीम फिल्म को लेकर विवादों में घिरे


चेन्नई। सिरसा के विवादास्पद डेरा सच्चा सौदा के प्रमुख गुरमीत राम रहीम ंिसह एक बार फिर विवाद में घिरते नजर आ रहे है। उन्होंने अगले महीने रिलीज होने वाली उन पर बनी फिल्म पर अनेक सिख संगठनों ने पाबंदी की मांग की है। डेरा प्रमुख अगले महीने आ रही फिल्म ‘मैसेंजर ऑफ गॉडÓ (एमएसजी) में खुद शीर्ष किरदार अदा कर रहे हैं और स्वयं निर्देशित फिल्म में उन्होंने फिल्म के गीत भी गाये हैं। हालांकि अकाल तख्त ने पंजाब सरकार से फिल्म पर पाबंदी की मांग की है।

अकाल तख्त के प्रमुख गुरबचन ंिसह का कहना है कि डेरा प्रमुख पर हत्या और बलात्कार के आरोप हैं और उनकी फिल्म से लोग गुमराह हो सकते हैं। उन्होंने कहा कि फिल्म ंिहदू, सिख और मुस्लिमों की धार्मिक भावनाओं को आहत करेगी।ÓÓ ऑल इंडिया सिख स्टूडेंट्स फेडरेशन (एआईएसएसएफ) के प्रमुख करनैल ंिसह पीरमोहम्मद ने भी केंद्र और राज्य सरकार से फिल्म के प्रदर्शन पर रोक लगाने को कहा है। उन्होंने कहा कि पिछले दिनों अकाल तख्त ने लोगों से डेरा प्रमुख के धार्मिक समागमों में नहीं जाने को कहा था और सिख संगठनों का कर्तव्य है कि इस फिल्म को रिलीज नहीं होने दिया जाए। अकाल तख्त ने सिरसा स्थित डेरा प्रमुख गुरमीत राम रहीम द्वारा कथित तौर पर सिखों के दसवें गुरू गोंिवद ंिसह का रूप रखे जाने पर आपत्ति जताई थी जिसके बाद पंजाब में सिखों और डेरा समर्थकों के बीच तनाव की स्थिति बन गयी थी। अकाली दल के प्रवक्ता और कैबिनेट मंत्री दलजीत ंिसह चीमा ने कहा कि १६ जनवरी को फिल्म रिलीज होने के बाद ही कोई फैसला किया जाएगा। उन्होंने कहा कि अगर फिल्म में कुछ आपत्तिजनक मिला तो सरकार फिल्म सेंसर बोर्ड से इस पर पाबंदी के लिए संपर्क करेगी। एआईएसएसएफ ने इस बात की जांच की भी मांग की है कि डेरा प्रमुख को फिल्म बनाने के लिए पैसा कहां से मिला। शिरोमणि अकाली दल-मान के अध्यक्ष सिमरजीत ंिसह मान ने भी फिल्म पर प्रतिबंध की मांग की है।