बाबा रामदेव के जीवन पर बन रहा टीवी सीरियल


नई दिल्ली (ईएमएस)। योग गुरु बाबा रामदेव ने अपने जीवन के 50 वर्षों का हवाला देते हुए एक मास्टर प्लान तैयार किया है। इसके तहत वे देश के करीब एक करोड़ बच्चों को निशुल्क शिक्षा उपलब्ध कराकर उन्हें रोजगार के योग्य बनाएंगे। दिल्ली में अपने जीवन पर आधारित टीवी धारावाहिक ‘रामदेव-एक संघर्ष’ का प्रचार करने पहुंचे बाबा रामदेव ने मास्टर प्लान की जानकारी दी। उन्होंने कहा कि 12 फरवरी को डिस्कवरी जीत टीवी चैनल पर प्रसारित होने वाला यह धारावाहिक सच्ची घटना पर आधारित है। 10 फरवरी को दिल्ली के छत्रसाल स्टेडियम में इसकी स्क्रीनिंग की जाएगी, जिसमें वित्त मंत्री अरुण जेटली, गृहमंत्री राजनाथ सिंह सहित करीब 10 हजार लोग मौजूद होंगे। बाबा रामदेव ने कहा ने कहा कि बचपन से ही उनका जीवन त्याग, संघर्ष, गंभीर घटनाओं के बीच व्यतीत हुआ है। जन मानस के सरोकार के लिए यह धारावाहिक बनाया है। इसमें उनके जीवन से जुड़ी तमाम सच्ची घटनाओं को दिखाया जाएगा। मैं एक ठेठ देसी और शुद्ध संन्यासी हूं। मैंने हमेशा धारा के विरुद्ध अपनी जीवन यात्रा को आगे बढ़ाया है। सामाजिक दृष्टि से मुझे बहुत देर बाद अंदाजा हुआ कि मैं एक पिछड़े परिवार से आता हूं। ये उनका सौभाग्य है कि भारत में उनका जन्म हुआ। महापुरुषों से प्रेरणा लेकर वे जीवन में अग्रसर हुए हैं। कभी कामनाओं की इच्छा नहीं की। यही वजह है कि आज स्वदेशी पूरे विश्व के लिए एक उदाहरण बना है। स्वदेशी को पाषाण युग का कहने वालों के लिए आज पतंजलि सबसे बड़ा सबक है। करोड़ों लोगों का समर्थन और प्यार की बदौलत ही यह मुकाम हासिल हुआ है। बाबा ने कहा कि धारावाहिक में जिस किरदार को नकारात्मक दिखाया है, ये सब उनके जीवन से जुड़े हुए हैं। इस बीच बाबा ने ये भी कहा कि इस देश में हिंदु और मुस्लिम सभी को रहने का एक समान अधिकार प्राप्त है। स्वामी रामदेव ने कहा कि उन्होंने हर विरोध और तिरस्कार को अपनी ताकत बनाया। उनके सफर में गुरु आचार्य वार्ष्णेय हमेशा साथ रहे। वह अनपढ़ माता-पिता के बेटे हैं और पैदल चलकर सरकारी स्कूल में पढ़ने जाते थे। स्वामी रामदेव ने कहा, जीते जी अपनी कहानियों को दिखाना एक और संघर्ष को बुलावा देना है लेकिन वह इसके लिए तैयार हूं।