विराट, शास्त्री के कारण धोनी ने अचानक कह दिया अलविदा ?



मेलबोर्न। भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान महेन्द्र सिंह धोनी के अचानक संन्यास लेने के पैâसले से सभी हैरान हैं। पिछले काफी समय से अपेक्षा के अनुरूप प्रदर्शन नहीं कर पाने के कारण धोनी पर कप्तानी छोड़ने दबाव जरूर था पर इस प्रकार वह टेस्ट से ही संन्यास ले लेंगे इसका किसी को भी अंदेशा नहीं था। ऐसा माना जा रहा है कि
धोनी के इस पैâसले के पीछे एक कारण नए कप्तान विराट कोहली और टीम निदेशक रवि शास्त्री के बीच बढ़ती नजदीकियां भी हैं।
सूत्रों के अनुसार धोनी ने कुछ हफ्ते पहले ही टीम के साथियों को संकेत दे दिया था कि यह उनकी आखिरी सीरीज होगी। धोनी के अचानक लिए इस पैâसले के पीछे ड्रेिंसग रूम का बदलता हुआ माहौल एक बहुत बड़ा कारण था। एडिलेड में टीम इंडिया की ओर से टेस्ट कप्तानी करने वाले विराट और रवि शास्त्री के बीच बढ़ती नजदीकी के चलते टेस्ट प्रारूप में धोनी युग के अंत की शुरुआत हुई। रवि शास्त्री टीम निदेशक बने तो कोच डंकन फ्लेचर का टीम में दबदबा कम हुआ। डंकन और धोनी के बीच काम को लेकर काफी अच्छे रिश्ते थे। फ्लेचर के किनारे होते ही टीम से जुड़े सभी मामलों में रवि शास्त्री का दखल बढ़ता गया। टीम को लेकर पैâसले में भी शास्त्री की चलने लगी। इस तरह से टेस्ट क्रिकेट में यह धोनी के दबदबे के अंत की शुरुआत हो गई। धोनी ने फ्लेचर के साथ मिलकर टीम को एक अलग रंग में ढाला था और शास्त्री के आने से यह उतरना भी शुरू हो गया। एडिलेड टेस्ट में विराट की अगुवाई में टीम काफी आक्रामक होकर खेली। टीम इंडिया ने ऑस्ट्रेलिया के दिए गए मुाqश्कल लक्ष्य का पीछा करने का प्रयास किया। इस तरह से कोहली और शास्त्री ने टेस्ट क्रिकेट में टीम इंडिया को आक्रामक रूख के साथ खेलने का रास्ता दिखाया। धोनी हमेशा अपनी तरह से खेले हैं और टीम को उसी तरह से ढाला था। धोनी की वापसी के बाद हुई हार के बाद उनपर दबाव भी ब़ढ़ता गया और उन्होंने यह पैâसला ले लिया।